menu-icon
India Daily
share--v1

ML खट्टर से शिवराज सिंह चौहान तक, मोदी कैबिनेट में क्या करेंगे पूर्व मुख्यमंत्री? देख लें कैबिनेट पोर्टफोलियो

भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी कैबिनेट 3.0 में 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को जगह दी है. इसमें कृषि से लेकर उद्योग मंत्री तक शामिल हैं. पूर्व मुख्यमंत्रियों को नरेंद्र मोदी कैबिनेट में अहम मंत्रालय मिले हैं. आइए जानते हैं किसे क्या मिला है.

auth-image
India Daily Live
Shivraj Singh Manohar lal khattar
Courtesy: Social Media

नरेंद्र मोदी कैबिनेट 3.0 का गठन हो चुका है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बड़े मंत्रालयों में कोई हेरफेर नहीं की है. उनकी कैबिनेट में राजनाथ सिंह से लेकर अमित शाह तक के पास वही मंत्रालय हैं, जो उनके पास पहले से थे. बीजेपी ने 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को जगह दी है. इनमें मनोहर लाल खट्टर से लेकर शिवराज सिंह चौहान तक का नाम शामिल है. बीजेपी ने सहयोगी दलों के भी पूर्व मुख्यमंत्रियों को कैबिनेट में शामिल किया है.

- शिवराज सिंह चौहान को कृषि मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली तो वहीं मनोहर लाल खट्टर को ऊर्जा मंत्रालय और  आवास और शहरी मामलों का मंत्रालय मिला है. 

- बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर भी नरेंद्र मोदी ने मेहरबानी दिखाई है. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के सिर्फ एक सांसद जीतन राम मांझी ही हैं फिर भी उन्हें कैबिनेट में जगह मिल गई है. उन्हें माइक्रो, स्माल और मीडियम इंटरप्राइजेज (MSME) दी गई है. 

- बीजेपी के दिग्गज नेता और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह, एक बार फिर से देश के रक्षा मंत्री बनाए गए हैं. असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री बनाया गया है. 

- जनता दल सेक्युलर (JDS) नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को भारी उद्योग मंत्री
इस्पात मंत्री बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें-  PM मोदी ने मंत्रियों को बांटे विभाग, जानिए किसके हिस्से में आया कौन सा मंत्रालय?

बड़े मंत्रियों के नहीं बदले गए हैं विभाग

अमित शाह गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री बने रहेंगे. नितिन गडकरी के पास भी सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय बरकरार रहेगा. निर्मला सीतारमण के पास वित्त मंत्रालय बना रहेगा. जेपी नड्डा को फिर से स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय मिल गया है. एस जयशंकर के पास विदेश मंत्रालय है और पीयूष गोयल को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय सौंपा गया है.