share--v1

'देश के खिलाफ अपराधों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए', CJI चंद्रचूड़ ने जांच एजेंसियों को दी नसीहत

केंद्रीय जांच एजेंसियों को लेकर भारत के चीफ जस्टिस चंद्रचूड़ ने अहम टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि देश की जांच एजेंसियों को राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे अपराधों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

auth-image
India Daily Live

 CJI Chandrachud:  सीजीआई डीवाई चंद्रचूड़ ने सोमवार को कहा कि देश की सुरक्षा एजेंसियों को अपनी लड़ाई चुननी चाहिए. ध्यान के देश के खिलाफ हो रही अपराधों पर ज्यादा होना चाहिए. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा और देश के आर्थिक स्वास्थ्य के लिए खतरा को लेकर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए. 

डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि मुझे लगता है कि हमने अपनी प्रमुख जांच एजेंसियों को बहुत कम फैलाया है. उन्हें केवल उन अपराधों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित हैं और देश के खिलाफ आर्थिक अपराध हैं. सीजेआई ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के पहले निदेशक की स्मृति में 20वें डीपी कोहली मेमोरियल व्याख्यान में अपने मुख्य भाषण के दौरान ये टिप्पणियां कीं.

प्राइवेसी के अधिकारों में संतुलन जरूरी

सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि सर्च और जब्ती शक्तियों और प्राइवेसी के अधिकारों में संतुलन जरूरी है.  मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि मुझे लगता है कि हमने प्रमुख जांच एजेंसियों को बहुत कमजोर कर दिया है. उन्होंने बताया कि जांच एजेंसी में बड़े पैमाने पर अधिकारी प्रतिनियुक्ति पर हैं. स्ट्रक्चरल रिफॉर्म्स से जांच एजेंसी को अपग्रेड किया जाना चाहिए. इसके अवाला आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करना आवश्यक है. 

टेक्नोलॉजी का होना चाहिए इस्तेमाल

सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि एजेंसियों को अपनी लड़ाई चुनने के जरुरत है. चंद्रचूड़ ने समाधान के रूप में एफआईआर दाखिल करने से शुरू होने वाली जांच प्रक्रिया को डिजिटल बनाने का प्रस्ताव रखा. उन्होंने कहा कि टेक्नोलॉजी का हम फायदा उठा सकते हैं, लेकिन उन्होंने टेक्नोलॉजी  के संभावित दुरुपयोग के बारे में चेतावनी दी.
 

Also Read