share--v1

Taiwan Earthquake: भूकंप के बाद ताइवान में रेस्क्यू जारी, तबाही के फोटो-वीडियो देख सिहर जाएंगे

Taiwan Earthquake Rescue Updates: ताइवान में जोरदार भूंकप के बाद भारतीय ताइपे एसोसिएशन ने स्थानीय अधिकारियों की ओर से जारी सलाह का पालन करने का अनुरोध किया है. साथ ही ताइवान में रहने वाले सभी भारतीय नागरिकों को सहायता और मार्गदर्शन के लिए एक हेल्पलाइन भी जारी की है.

auth-image
India Daily Live

Taiwan Earthquake Rescue Updates: ताइवान में बुधवार सुबह 7.4 की तीव्रता वाला तेज भूकंप आया. भूकंप से ताइवान की इमारतों को काफी नुकसान हुआ है. अब तक 7 लोगों की मौत हुई है, जबकि 711 लोग घायल हुए हैं. अलग-अलग इलाकों में सैंकड़ों लोगों के फंसे होने की भी खबर है. भूकंप के बाद ताइवान की नेशनल फायर फाइटिंग एजेंसी राहत बचाव कार्यों में जुटी है. साथ ही कई अन्य संगठन में रेस्क्यू में मदद कर रहे हैं.

ताइवान में आए जोरदार भूकंप के बाद रेस्क्यू की कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल है. अधिकारियों ने पुष्टि की है कि कम से कम चार लोगों की मौत हो गई है, जबकि बचावकर्मी ढही इमारतों में फंसे लोगों को बाहर निकाल रहे हैं. अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के अनुसार, भूकंप का केंद्र ताइवान के हुलिएन शहर से लगभग 18 किमी (11 मील) दक्षिण में स्थित है.

हुलिएन के साथ-साथ ताइवान के अन्य इलाकों में फंसे लोगों तक पहुंचने के लिए बचाव कार्य जारी है. नेशनल फायर एजेंसी के मुताबिक, रेनकिंग टनल और किंगशुई टनल समेत कई सुरंगों में लोग फंसे हुए हैं. हुलिएन में यूरेनस बिल्डिंग से कम से कम 12 लोगों को बचाया गया.

ताइपे में, झोंगशान जिले में फंसी लिफ्ट से दो लोगों को बचाया गया और न्यू ताइपे शहर के ज़िंडियन जिले में एक ढही हुई इमारत के घटनास्थल से सात लोगों को बचाया गया.

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरों और वीडियो में राजधानी ताइपे समेत अन्य इलाकों की इमारतें हिलती हुई दिख रही हैं. भूकंप के बाद ताइवान के पड़ोसी देशों पर सुनामी अलर्ट भी जारी किया गया, जिसे कुछ देर बाद वापस ले लिया गया. 

भूकंप झेलने वाले प्रत्यक्षदर्शियों ने क्या बताया?

ओसियन त्साई नाम की महिला भूकंप के केंद्र के निकटतम शहर हुलिएन में रहती है. उन्होंने बीबीसी को बताया कि उन्हें भूकंपों की आदत है और पहले उन्हें लगा कि ये मामूली भूकंप है.

उन्होंने बताया कि शुरुआत में झटके बहुत तेज़ नहीं थे, लेकिन फिर अचानक भूकंप के झटके तेज हो गए. त्साई ने कहा कि मैं बिस्तर से उठ ही रही था कि तभी एक कपड़े की रैक और बुकशेल्फ गिर गई.  मुझे घर पर अपने सामान की चिंता होने लगी. सौभाग्य से भूकंप के तेज झटकों के बावजूद नुकसान कम हुआ. 

चीन ने की ताइवान की मदद की पेशकश

भूकंप आने के तुरंत बाद चीनी अधिकारियों ने एक बयान जारी कर कहा कि वे भूकंप से जूझने वाले ताइवान को आपदा राहत सहायता प्रदान करने के इच्छुक हैं. 

Image

चीनी राज्य मीडिया भी इस आपदा पर व्यापक रूप से रिपोर्ट कर रहा है. फिलहाल कुछ सालों से चीन और ताइवान के बीच तनावपूर्ण रिश्ते हैं. ताइवान खुद को एक स्वतंत्र देश के रूप में देखता है, लेकिन बीजिंग इसे अपना एक प्रांत मानता है. 

उधर, ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने कहा कि सेना को बचाव कार्यों में तैनात किया जाएगा और उन्होंने केंद्रीय एजेंसियों से स्थानीय सरकारों के साथ संपर्क बनाए रखने का आग्रह किया है.

Image

फेसबुक पर एक पोस्ट में, उन्होंने अपने देश के लोगों से अधिकारियों के अपडेट पर ध्यान देने और भूकंप के बाद आने वाले झटकों को देखते हुए लिफ्ट का यूज न करने की अपील की. 

आखिर कहां है भूकंप का सेंटर हुलिएन?

भूकंप का केंद्र हुलिएन ताइवान के पूर्वी तट पर एक छोटा सा शहर है. ये काफी दूर है, जहां ताइवान की स्वदेशी जनजाति के लोग रहते हैं. ये क्षेत्र ताइवान के बाकी हिस्सों से पूरी तरह से कटा हुआ है.
हुलिएन के ठीक बाहर तारोको गॉर्ज को एशिया के प्राकृतिक आश्चर्यों में से एक माना जाता है. इसे देखने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं और हो सकता है कि वे अभी भूकंप और भूस्खलन के कारण खाई में फंस गए हों.

Image

पिछले कुछ दशकों में हुलिएन के बुनियादी ढांचे में सुधार हुआ है, लेकिन अभी भी इस स्थान तक पहुंचना कठिन माना जाता है और बचाव दल वहां पहुंचने का एकमात्र रास्ता हवाई मार्ग है.

Also Read