menu-icon
India Daily
share--v1

'सरकार तो अब बनेगी ही...' अधूरे जवाब से फिर सबको कन्फ्यूज कर गए नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, कब कौन सी पलटी मार लें, कहा नहीं जा सकता है. चाचा-भतीजा एक फ्लाइट से दिल्ली आए तो खतरे में नरेंद्र मोदी की 'NDA सरकार' नजर आने लगी. अब नीतीश कुमार ने एक अधूरा जवाब देकर और सबको उलझा दिया है.

auth-image
India Daily Live
Nitish Kumar
Courtesy: Social Media

लोकसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं. अब यह तो तय है कि सरकार बनेगी, लेकिन किसकी, यह सबकुछ नीतीश कुमार के हाथ में है. अब अगर नीतीश कुमार चाहें तो एनडीए की सरकार बनवाएं, न चाहें तो इंडिया गठबंधन उन्हें लपकने के लिए पूरी तरह से तैयार है. अटकलें इसलिए लग रही हैं कि 'भतीजा' तेजस्वी यादव, अपने 'चाचा' नीतीश के साथ ही दिल्ली लैंड हुआ है. चाचा ऐसे हैं कि उन्हें उनका भतीजा खुद 'पलटूराम' का टैग दे चुका है. 

नीतीश कुमार जैसे ही दिल्ली पहुंचे, उन्हें पत्रकारों ने घेर लिया. जब उनसे सवाल किया गया कि क्या आप एनडीए का हिस्सा होंगे, कौन सा मंत्रालय मांगेंगे तो नीतीश कुमार अपने पुराने अंदाज में मुस्कराए और आगे बढ़ गए. जब उनसे सवाल पूछा गया कि क्या सरकार बनेगी. नीतीश कुमार ने जो 'संक्षिप्त' जवाब दिया है, उसे सुनकर आप कन्फ्यूज हो जाएंगे. नीतीश कुमार ने कहा, 'सरकार तो अब बनेगी ही. सरकार तो अब बनेगी ही.' लेकिन किसकी सरकार बनेगी, नीतीश कुमार ने बताया ही नहीं. उन्होंने यह भी नहीं कहा कि वे नरेंद्र मोदी की सरकार बनाने जा रहे हैं.

भतीजे ने बता दिया, कब होगा खेला?

राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने भी अब बता दिया है कि सियासत में कब खेला होने वाला है. उन्होंने कहा है कि इंडिया गठबंधन की बैठक में यह फिक्स हो जाएगा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए क्या फैसला होने वाला है. तेजस्वी यादव ने कहा, 'मेरा देश महान है और इस देश की जनता ने पीएम मोदी को हराया है. मैं देशवासियों का धन्यवाद देता हूं. तानाशाही के खिलाफ वोट किया गया है. संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए वोट किया गया है. जनता मालिक है. शाम की बैठक में देखते हैं क्या निर्णय होता है.'



नीतीश कुमार की अब छवि ऐसी बन गई है कि लोग न तो उन पर भरोसा कर पा रहे हैं, न ही यह मान पा रहे हैं कि वे विपक्षी पार्टियों से जाकर मिल जाएंगे. सियासी जानकार तो यहां तक कहने लगे हैं कि अगर किसी ने उन्हें प्रधानमंत्री पद की पेशकश की तो वे एनडीए को तत्काल छोड़कर इंडिया गठबंधन के साथ जा मिलेंगे. ऐसा वे कई बार कर चुके हैं. साल 2014 से लेकर अब तक, नीतीश कुमार ने कितनी बार पलटी मारी है, आप सोच भी नहीं पाएंगे.
 

नीतीश कुमार ने BJP को किया कन्फ्यूज! अतीत ही ऐसा है

नीतीश कुमार इस बार बेहद ताकतवर हैं. उनके पास 12 लोकसभा सीटे हैं. उन्हें सत्ता में रहने का हुनर मालूम है. तभी तो अगस्त 2022 में उन्होंने एक बार एनडीए को झटका देकर तेजस्वी के साथ सरकार बनाई. उन्होंने कहा मरना पसंद करूंगा, बीजेपी के साथ जाना नहीं. नीतीश कुमार ने जाना पसंद कर लिया. कुछ दिन सरकार चली, फिर 2024 में एनडीए में लौट आए. 

नीतीश कुमार नरेंद्र मोदी को इतना नापसंद करते हैं कि साल 2014 में उन्होंने पीएम फेस को लेकर मोदी का नाम आया तो समर्थन वापस ले लिया. वे कांग्रेस और आरजेडी के साथ चले गए. 

2015 के विधानसभा में गठबंधन को प्रचंड बहुमत मिला, बीजेपी सिमट गई तो यह भी नीतीश को रास नहीं आया. 2017 में उन्होंने तौबा कर लिया. फिर वे बीजेपी में लौट गए. 2022 में नीतीश कुमार का मन हुआ कि बीजेपी के साथ नहीं निभाना है. इस बार वे क्या करेंगे, वही जानें, लेकिन उनका अतीत ऐसा है कि खुद बीजेपी कन्फ्यूज है कि क्या नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन पाएंगे या नहीं.