menu-icon
India Daily
share--v1

लो विजन यूजर्स के लिए GOOGLE का धमाल, आखिर कैसे मदद कर रहा है नया lookout app

Google's Lookout app for low visibility: गूगल ने ग्लोबल एक्सेसिबिलिटी अवेयरनेस डे पर लो विजन वाले यूजर्स के लिए एंड्रॉइड पर लुकआउट टूल को AI के साथ अपग्रेड किया और कुछ नई सुविधाओं जैसे किसी खास चीज की खोज, इमेज डिटेल्स, एआई-जनरेटेड फोटो कैप्शन, फाइंड मोड बीटा वर्जन, सात कैटेगरीज, बैठने की जगह, टेबल, बाथरूम को शामिल किया है. इन अपडेट्स में लुक टू स्पीक ऐप, टेक्स्ट-फ्री मोड, प्रोजेक्ट गेमफेस का एंड्रॉइड का एक्सपैंशन शामिल है.

auth-image
India Daily Live
Google Lookout app

Google's Lookout app for low visibility: ग्लोबल एक्सेसिबिलिटी अवेयरनेस डे के मौके पर गूगल ने अपने विभिन्न उत्पादों और सेवाओं में इस हफ्ते की शुरुआत में कई नई सुविधाजनक सेवाएं शामिल की हैं. इनमें से एक प्रमुख अपडेट है लो विजन वाले लोगों के लिए बनाए गए उनके लुकआउट ऐप में. लुकआउट ऐप की मदद से अब कम दिखने वाले लोग अपने आसपास की चीजों के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

गूगल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का इस्तेमाल करते हुए लुकआउट ऐप में खास चीजों को ढूंढने की क्षमता को शामिल किया है. इन चीजों में कुर्सियां, बाथरूम आदि शामिल हैं, कुल मिलाकर यह सुविधा सात तरह की चीजों को ढूंढने में मदद करेगी.

कैसे ये नया अपडेट यूजर्स की मदद करेगा

गूगल ने अभी टेस्टिंग के लिए फाइंड मोड को पेश किया है. इस मोड की मदद से यूजर अपने आसपास की खास चीजों को ढूंढ सकते हैं. यूजर सात तरह की चीजों जैसे कुर्सियां, टेबल या बाथरूम को चुन सकते हैं और फिर जैसे ही वो अपने कैमरे को इधर-उधर घुमाएंगे, लुकआउट ऐप उन्हें उस चीज की दिशा और दूरी के बारे में बताएगा.

इसके अलावा, इस साल की शुरुआत में ही गूगल ने लुकआउट ऐप में दुनियाभर के लिए अंग्रेजी भाषा में एआई द्वारा बनाए गए इमेज कैप्शन की सुविधा शुरू की थी. अब अगर कोई यूजर ऐप के अंदर ही कोई फोटो लेता है, तो उसे उस इमेज का एआई द्वारा बनाया गया विवरण मिल जाएगा, जिससे वो उस फोटो के बारे में और जान सकेगा.

गूगल की अन्य आसान सुविधाएं

लुक टू स्पीक ऐप में टेक्स्ट-फ्री मोड: एंड्रॉयड के लुक टू स्पीक ऐप की मदद से यूजर अपनी आंखों की हरकतों से पहले से लिखे हुए या खुद के बनाए हुए वाक्यों को चुन सकते हैं, जिन्हें फिर डिवाइस पढ़कर सुनाएगा. अब इस ऐप में टेक्स्ट-फ्री मोड को शामिल किया गया है. गूगल का कहना है कि यह सुविधा उन लोगों के लिए बनाई गई है जिन्हें सीखने में परेशानी होती है या वे किसी दूसरी भाषा बोलते हैं.

प्रोजेक्ट गेमफेस अब एंड्रॉयड पर भी: गूगल का प्रोजेक्ट गेमफेस लोगों को कंप्यूटर के कर्सर को अपने सिर हिलाने और चेहरे के हाव-भाव से कंट्रोल करने की सुविधा देता है. अब तक यह सुविधा सिर्फ पीसी पर ही उपलब्ध थी, लेकिन अब इसे एंड्रॉयड डिवाइस पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है. डेवलपर्स अब गिटहब के जरिए इस टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल अपने ऐप्स में भी कर सकेंगे.

गूगल मैप्स में बिजनेस के लिए ऑराकास्ट सपोर्ट: इसके अलावा गूगल कुछ और सुगम्यता सुविधाएं भी दे रहा है. उदाहरण के लिए, अब बिजनेस अपने गूगल मैप्स प्रोफाइल में बता सकते हैं कि उनकी जगह पर ऑराकास्ट-सक्षम ब्लूटूथ डिवाइस सपोर्ट किया जाता है. इस डिवाइस की मदद से सिनेमाघरों, ऑडिटोरियम या जिम में मौजूद डिवाइसों से आने वाली आवाज को सुना जा सकता है.

डिटेल्ड वॉइस गाइडेंस और नई साउंड नोटिफिकेशन: गूगल मैप्स की पैदल चलने के लिए डिटेल्ड वॉइस गाइडेंस की सुविधा को अब दुनियाभर में सभी भाषाओं के साथ एंड्रॉयड और आईओएस में शामिल किया जा रहा है. इसके अलावा, गूगल ने साउंड नोटिफिकेशन को भी नया रूप दिया है. ये नई साउंड नोटिफिकेशन अब आग की अलार्म जैसी आवाजों के बारे में लोगों को सचेत कर सकती हैं.

इन अपडेट्स के साथ गूगल विभिन्न प्रकार की कमजोरियों वाले लोगों के लिए अपने उत्पादों को ज्यादा आसान बना रहा है, जिससे वो आसानी से टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल कर सकें.