menu-icon
India Daily
share--v1

चीन पर होगा एक्शन या पाकिस्तान को सिखाएंगे सबक? विदेश मंत्री ने बताया मोदी सरकार का प्लान

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने विदेश मंत्रालय का कार्यभार संभाल लिया है. वे मंगलवार सुबह, अपने मंत्रालय पहुंचे और कहा कि उनकी प्राथमकिता पड़ोसियों से बेहतर संबंध बेहतर करेंगे लेकिन आतंकवाद के खिलाफ भारत काम करना जारी रखेगा.

auth-image
India Daily Live
S Jaishankar
Courtesy: PIB

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दिग्गज नेता एस जयशंकर ने विदेश मंत्रालय का कार्यभार संभाल लिया है. उन्होंने दो दिन पहले ही राष्ट्रपति भवन में कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ ली थी. नरेंद्र मोदी 3.0 सरकार में केंद्र की प्राथमिकताएं क्या होंगी, पाकिस्तान और भारत के साथ संबंध कैसे होंगे, इस पर उन्होंने खुलकर बात की है. एस जयशंकर ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी भारत की नीतियों को लेकर बात की है.

विदेश मंत्री ने कहा, 'मुझे पूरा भरोसा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विदेश नीतियां बेहद सफल होंगे. भारत का प्रभाव लगातार बढ़ रहा है. यह सिर्फ हमारा नजरिया ही नहीं है, दूसरे देश भी ऐसा ही सोचते हैं. वे सोचते हैं कि भारत उनका सच्चा दोस्त है, आपदा के वक्त दुनिया ने देखा है कि एक ही ऐसा देश है, जो ग्लोबल साउथ के साथ खड़ रहा है, वह भारत है.'

विदेश मंत्री ने कहा, 'उन्होंने देखा है कि जब हमने जी-20 की अध्यक्षता के दौरान अफ्रीकी संघ की सदस्यता को आगे बढ़ाया तो दुनिया ने हम पर भरोसा किया. हमारी जिम्मेदारियां भी बढ़ रही हैं, इसलिए हमारा भी मानना ​​है कि पीएम मोदी के नेतृत्व में दुनिया में भारत की पहचान जरूर बढ़ेगी.'

किन मुद्दों पर रहेगा नरेंद्र मोदी 3.0 सरकार का जोर?

विदेशमंत्री एस जयशंकर ने कहा कि नरेंद्र मोदी 3.0 का फोकस चीन के साथ सीमा विवाद को सुलझाना है.  उन्होंने कहा, 'लोकतंत्र में किसी भी देश में 3 बार लगातार चुना जाना बड़ी बात है. दुनिया को भी लग रहा है कि भारत में राजनीतिक स्थिरता है. जहां तक पाकिस्तान और चीन की बात है, दोनों देशों के साथ भारत के रिश्ते अलग-अलग हैं. चीन के साथ सीमा विवाद को सुलझाने पर हम प्रमुखता से काम करेंगे.'

पाकिस्तान पर क्या है नरेंद्र मोदी सरकार का प्लान?

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, 'भारत सीमा पार आतंक को सुलझाने की कोशिश करेगा. इस मुद्दे का हल निकाला जाएगा.' उन्होंने कहा है कि भारत सीमा विवाद के मुद्दे को गंभीरता से सुलझाने की कोशिश करेगा.

एस जयशंकर ने अपने दूसरे कार्यकाल पर कहा, 'यह बहुत गर्व की बात है कि मुझे विदेश मंत्रालय का कार्यभार मिला. मोदी सरकार में विदेश मंत्रालय अप्रत्याशित तौर पर अच्छे काम करेगा. हमें भरोसा है कि हम विश्व बंधुत्व के सिद्धांत पर काम करेंगे. 

अभी कैसे हैं चीन और पाकिस्तान से रिश्ते?

पाकिस्तान और भारत की सीमाओं पर अभी शांति है. सीजय फायर लागू है. न भारत, न ही पाकिस्तान की ओर से उकसावे की फायरिंग की जा रही है. वहीं चीन के साथ लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक विवाद की स्थिति है. चीन सीमावर्ती इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है. भारत ने भी इन इलाकों में गश्ती बढ़ाई है और सेना मजबूती से डटी है. गलवान झड़प के बाद किसी हिंसक झड़प के मामले चीन के साथ सामने नहीं आए हैं.