menu-icon
India Daily
share--v1

'अरविंद केजरीवाल को जेल में मारने की साजिश', आतिशी के इस दावे से मचा हड़कंप

Delhi Liquor Policy: तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर ईडी का आरोप है कि वह जेल में चीनी वाला भोजन खा रहे हैं ताकि उन्हें चिकित्सा जमानत मिल सके. वहीं दूसरी तरफ आप नेता आतिशी ने दावा किया है कि अरविंद केजरीवाल को जेल में मारने की साजिश रची जा रही है.

auth-image
India Daily Live
atishi

Delhi Liquor Policy: दिल्ली आबकारी नीति मामले में तिहाड़ जेल में बंद सीएम अरविंद केजरीवाल पर ईडी ने आरोप लगाया है कि केजरीवाल चिकित्सा जमानत पाने के लिए मधुमेह होने के बावजूद भी रोज चीनी वाला भोजन खा रहे हैं. ईडी के इस आरोपों का खंडन करते हुए आम आदमी पार्टी ने कहा है कि जांच एजेंसियों के माध्यम से बीजेपी सीएम केजरीवाल के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रही है.

दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने यह दावा किया है कि घर में बने भोजन पर रोक लगाकर अरविंद केजरीवाल को जेल में मारने की साजिश रची जा रही है. आतिशी ने दावा किया कि ईडी ने कोर्ट में झूठ बोला है कि अरविंद केजरीवाल जेल में चीनी वाली चाय पी रहे हैं और मिठाई खा रहे हैं. आतिशी ने कहा कि केजरीवाल में आर्टिफिशियल शुगर का इस्तेमाल कर रहे हैं. बता दें कि इससे पहले भी कोर्ट में ईडी ने कहा था कि केजरीवाल रोज आलू पूरी, आम, मिठाइयां खा रहे हैं ताकि वह मेडिकल जमानत पा सकें.

घर का खाना बंद करने के लिए ED रच रही साजिश

सीएम केजरीवाल के वकील विवेक जैन ने ईडी की ओर से लगाए गए सभी आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि ऐसा सिर्फ इसलिए किया जा रहा है ताकि दिल्ली के मुख्यमंत्री के लिए घर का बना खाना बंद किया जा सके. केजरीवाल के वकील ने आगे कहा कि जेल में केजरीवाल जो भी खा रहे हैं वह डॉक्टर द्वारा निर्धारित आहार के अनुसार है. उन्होंने आगे कहा कि मामला अदालत में विचाराधीन है इसलिए हम इस पर कुछ भी नहीं कहना चाहते हैं.

जेल प्रशासन पर आतिशी का गंभीर आरोप

आतिशी ने कहा कि जेल प्रशासन से सीएम केजरीवाल लगातार इंसुलिन देने की मांग कर रहे हैं, इसके बाद भी उन्हें इंसुलिन नहीं दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल का शुगर लेवल लगातार 300 से ऊपर बना हुआ है इसके बाद भी उन्हें  इंसुलिन उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है. सवालिया लहजे में आतिशी ने आगे कहा कि क्या ये साजिश है. आप एक ऐसे मरीज  को इंसुलिन नहीं दे रहे हैं जिसका शुगर लेवल लगाकर 300 से ऊपर जा रहा है. क्या आप उनकी जान लेने की कोशिश कर रहे हैं.