menu-icon
India Daily
share--v1

बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए 'काल' है ये गेंदबाज, आसपास भी नहीं हैं मुरली, वॉर्न, कुंबले जैसे दिग्गज

R Ashwin: आर अश्विन को लेफ्टहैंडर्स का काल कहा जाता है. इसकी गवाही उनके आकंड़े दे रहे हैं. अश्विन ने बेन स्टोक्स को 12वीं बार आउट किया है.

auth-image
Bhoopendra Rai
R Ashwin

हाइलाइट्स

  • अश्विन ने अब तक टेस्ट में 495 चटकाए हैं. जिसमें 248 दाएं हाथ के बैटर हैं, जबकि 247 बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं.
  • अश्विन के अलावा दुनिया में एक भी ऐसा गेंदबाज नहीं है, जिसने 200 से ज्यादा बाएं हाथ के बैटर्स को आउट किया हो.

R Ashwin : टेस्ट क्रिकेट में लेफ्ट राइट ओपनिंग बैटिंग कॉम्बिनेशन बढ़िया माना जाता है, इसके पीछे तर्क ये है कि जब बाएं और दाएं हाथ के बैटर एक साथ पिच पर होते हैं तो गेंदबाजों को मुश्किल होती है. स्ट्राईक रोटेट होने से कई दफा बॉलर सेट नहीं हो पाते और अपनी लाइन से भटक जाते हैं, जिसका फायदा बल्लेबाजी कर रही टीम को मिलता है, लेकिन एक गेंदबाज ऐसा है, जिसे लेफ्ट-राइट बैटिंग कॉम्बिनेशन से कोई फर्क नहीं पड़ा, उसके सामने जो भी आता है वो आउट होता है. खासकर ऐसी कंडीशन में यह गेंदबाज और घातक साबित होता है. 

क्रिकेट जगत में बाएं हाथ के बल्लेबाजों की संख्या 25-20 फीसदी है, लेकिन इस गेंदबाज के 50 फीसदी शिकार लेफ्टहैंडर्स ही बनते हैं. हम जिस दिग्गज की बात कर रहे हैं वो टीम इंडिया के स्टार ऑफ स्पिन आर अश्विन हैं, जिन्हें बाएं हाथ के बल्लेबाजों का विकेट लेना पसंद है. उन्होंने हैदराबाद टेस्ट में इंग्लिश कप्तान बेन स्टोक्स को क्लीन बोल्ड किया. ये 12वीं दफा था जब अश्विन ने स्टोक्स को अपना शिकार बनाया है. आइए नीचे जान लेते हैं कि आखिरी क्यों अश्विन स्पिनर्स का काल कहलाते हैं....

आर अश्विन ने अपने करियर में 50 प्रतिशतक विकेट लेफ्टहैंडर्स के लिए

टेस्ट फॉर्मेट में आर अश्विन भारत के दिग्गज गेंदबाजों में शुमार हैं. 27 जनवरी 2024 तक उन्होंने करियर में कुल 495 चटकाए हैं. जिसमें 248 दाएं हाथ के बैटर हैं, जबकि बाएं हाथ के बल्लेबाजों की संख्या 247 है. यह आंकड़े बताते हैं कि अश्विन कोई भेदभाव नहीं करते, जितना वह दाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए घातक हैं, उतना ही बाएं हाथ के बैटर्स के लिए. जब भी अश्विन के सामने लेफ्टहैंडर्स आते हैं तो मुंह की खाते हैं. 

बाएं हाथ के बैटर्स के लिए क्यों काल कहलाते हैं अश्विन 

एक दिलचस्प आकंड़ा ये है कि पूरी दुनिया में आर अश्विन के अलावा एक भी ऐसा गेंदबाज नहीं है, जिसने अपने पूरे टेस्ट करियर में बाएं हाथ के 220 से ज्यादा बैटर्स को आउट किया हो. जबकि अश्विन 247 बार ये कमाल कर चुके हैं. उन्होंने टेस्ट मैचों में 11 बल्लेबाजों को 7 या इससे अधिक बार आउट किया है, इनमें से 8 लेफ्टहैंडर्स हैं, जो बताता है कि अश्विन बाएं हाथ के बल्लेबाजों के लिए किसी काल से कम नहीं हैं.

मुरली के 25% शिकार भी लेफ्टहैंडर्स के नहीं 

टेस्ट क्रिकेट में 8 ऐसे दिग्गज हैं, जिन्होंने आर अश्विन से कहीं ज्यादा विकेट निकाले हैं, लेकिन कोई भी ऐसा नहीं है, जिसने अश्विन के बराबर बाएं हाथ के बल्लेबाजों का शिकार किया हो. 

मुथैया मुरलीधरन

श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने करियर में 800 शिकार किए हैं. वह दुनिया के सबसे कामयाब गेंदबाज कहलाते हैं. लेकिन उनके विकटों में बाएं हाथ के बल्लेबाजों का संख्या सिर्फ 191 है. 

शेन वॉर्नर 

ऑस्ट्रेलिया का यह दिग्गज गेंदबाज दुनिया का दूसरा कामयाब बॉलर है, जिसने 708 शिकार किए हैं. उन्होंने पूरे करियर में 172 बार लेफ्टहैंडर्स के विकेट लिए हैं. 

जेम्स एंडरसन

इंग्लैंड के जेम्स एंडरसन अपने करियर में कुल 690 शिकार किए, इनमें से 214 विकेट लेफ्टहैंडर्स के हैं. यानी, अगर कोई गेंदबाज अश्विन के करीब है तो वह एंडरसन हैं.

कुंबले, कपिल और हरभजन काफी पीछे

अनिल कुंबले, कपिल देव और हरभजन सिंह टेस्ट में 400 से ज्यादा शिकार कर चुके हैं. लेकिन इन दिग्गजों में से किसी एक ने भी 200 लैफ्टहैंडर्स का शिकार नहीं किया. 

किसने-कितने शिकार किए

अनिल कुंबले ने 167, हरभजन सिंह ने 139 और कपिल देव ने 87 बार बाएं हाथ के बैटर्स को आउट किया है. भारतीय गेंदबाजों में अश्विन ही टॉप पर हैं.