menu-icon
India Daily
share--v1

रूस से आई बड़ी खबर, इस तारीख को मिल जाएंगे भारत को बाकी दो S-400 मिसाइल सिस्टम!

Russia India News: अति आधुनिक हवाई सुरक्षा प्रणाली से लैस एस-400 मिसाइल सिस्टम की डिलीवरी से जुड़ी नई समय सीमा सामने आ गई है. भारत ने रूस के साथ 2018 में एस-400 की पांच यूनिट का समझौता किया था.

auth-image
India Daily Live
S 400 deal

Russia India News: रूस मे भारत को एस-400 मिसाइल सिस्टम के शेष दो यूनिट की डिलीवरी की समय सीमा के बारे में बड़ी जानकारी दी है. एस-400 की दो यूनिट की डिलीवरी साल 2025 तक हो जाएगी. भारत ने रूस से इन मिसाइल सिस्टम की खरीद के लिए 5.4 अरब डॉलर का समझौता किया था. इस समझौते के तहत भारत इस मिसाइल सिस्टम की पांच यूनिट मिलनी थीं. रूस भारत को तीन यूनिट की डिलीवरी कर चुका है. रूस ने यूक्रेन जंग के कारण दो मिसाइल सिस्टम की डिलीवरी को रोक दिया था. 

रूस जंग के कारण आर्थिक प्रतिबंधों का सामना कर रहा है. इस मिसाइल सिस्टम में प्रयोग होने वाले पार्ट्स और कच्चे माल की कमी के कारण रूस ने इसे पहले अपनी सुरक्षा के लिए चुना. इस वजह से इसकी डिलीवरी भारत को करने में देरी हुई. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एस-400 मिसाइल सिस्टम की शेष बची डिलीवरी 2025 तक भारत को हो जाएगी. अक्टूबर 2018 में दोनों देशों के बीच समझौते के तहत पांच सालों के भीतर इनकी डिलीवरी होनी थी. 

रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि एस 400 मिसाइल सिस्टम की डिलीवरी की नई समय सीमा सामने आ गई है. भारत को इनकी अगले साल तक इनकी डिलीवरी कर दी जाएगी. रूस से भारत अब तक तीन मिसाइल सिस्टम हासिल कर चुका है. भारत ने अमेरिका की चेतावनी के बाद भी एस-400 डील को आगे बढ़ाया था. अमेरिका ने कहा था कि वह काटसा नियम के तहत प्रतिबंध लगा सकता है. हालांकि भारत के खिलाफ अमेरिका ने कोई कार्रवाई नहीं की.

एस-400 मिसाइल सिस्टम रूस की नई लंबी और मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल है. यह साल 2007 में सेवा आई थी. इस एयर डिफेंस सिस्टम को रणनीतिक, सामरिक विमानों और क्रूज, बैलिस्टिक मिसाइलों को निशाना बनाने के लिए डिजाइन किया गया है. इसे जमीनी हमलों के विरुद्ध भी इस्तेमाल किया जा सकता है. यह 30 किमी की ऊंचाई के लक्ष्य पर निशाना साध सकता है.