menu-icon
India Daily
share--v1

चीन से रक्षा के लिए ताइवान ने बनाया 'समुद्री राक्षस' , जानिए इसकी खासियत

China Taiwan Conflict: ताइवान ने चीन से सुरक्षा के लिए पनडुब्बी का निर्माण कर लिया है. 2024 के अंत तक इस सबमरीन की डिलीवरी कर दी जाएगी.

auth-image
Shubhank Agnihotri
चीन से रक्षा के लिए ताइवान ने बनाया 'समुद्री राक्षस' ,  जानिए इसकी खासियत

China Taiwan Conflict: चीन से तनातनी माहौल के बीच ताइवान ने चीन की बौखलाहट को बढ़ा दिया है. ताइवान ने  28 सितंबर को अपनी पहली स्वदेश निर्मित पनडुब्बी से पर्दा हटा दिया. इस मौके पर राष्ट्रपति त्साइ इंग वेन ने इस पनडुब्बी की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि यह चीन सेना के हमले और खतरे के बीच हमें सुरक्षित रखेगा.

चीनी खतरे से होगी सुरक्षा


ताइवान के काओहसिंग शहर में स्थित शिपयार्ड में आयोजित इस प्रोग्राम में सबमरीन का अनावरण किया गया. डीजल-इलेक्ट्रिक सबमरीन का नाम नारवॉल या समुद्री राक्षस रखा गया है. ताइवान के राष्ट्रपति इसे बड़ी उपलब्धि बताया है.उन्होंने कहा कि यह सबमरीन ताइवान की रक्षा री दिशा में हमारी प्रतिबद्धता को को दिखाती है.


2024 के अंत तक हो जाएगी डिलीवरी

अपने संबोधन में ताइवान के राष्ट्रपति ने कहा कि पहले पहले देश में सबमरीन के निर्माण को असंभव माना जाता था.आज यह सबमरीन आप सबके सामने है. उन्होंने कहा कि यदि सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो पहली सबमरीन 2024  के अंत तक डिलीवरी के लिए तैयार हो जाएगी. दूसरी सबमरीन को 2027 तक पूरी करने की योजना है. 
 

इसलिए पड़ी ताइवान को जरूरत 


ताइवान के लिए इस सबमरीन का खासा महत्व है. दरअसल, यह सबमरीन ताइवान के द्वीपों और उसके बाहरी क्षेत्रों की रक्षा करने में मदद करेगी. हमले की स्थिति में यह पनडुब्बी चीन की नौसेना को ताइवान को घेरने से रोक सकती है. सरकार ने कहा कि चीन को फर्स्ट आइलैंड चेन, ताइवान, जापान, फिलिपींम, इंडोनेशिया को जोड़ने वाली एक काल्पनिक सिक्योरिटी रेखा को काटने से रोकेंगी.

ताइवान पर हमलावर क्यों है चीन


चीन की साम्यवादी पार्टी ताइवान के ऊपर अपने एक प्रांत के तौर पर दावा करती है. हालांकि उसने कभी भी इस द्वीप पर शासन नहीं किया है.वह इसे बल और धमकी देकर अपनाने की कोशिश करता है. इस वजह से दोंनों देशों के बीच कई बार युद्ध जैसे हालात भी बन चुके हैं.

 

यह भी पढ़ेंः भारतीय मूल की डॉक्टर कमल मेंघराजानी को व्हाइट हाउस में मिली बड़ी जिम्मेदारी, प्रेसिडेंट बाइडन ने किया एलान