menu-icon
India Daily
share--v1

खालिस्तान पर ब्रिटिश पीएम सुनक का निशाना, कहा- कट्टरवाद किसी तरह स्वीकार्य नहीं, भारत के साथ संबंधों पर है गर्व"

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने खालिस्तानी कट्टरपंथियों को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि खालिस्तानी समर्थक कट्टरवाद से निपटने के लिए ब्रिटेन भारत सरकार के साथ मिलकर काम कर रहा है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
खालिस्तान पर ब्रिटिश पीएम सुनक का निशाना, कहा- कट्टरवाद किसी तरह स्वीकार्य नहीं, भारत के साथ संबंधों पर है गर्व"

 

नई दिल्लीः ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने खालिस्तानी कट्टरपंथियों को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि खालिस्तानी समर्थक कट्टरवाद से निपटने के लिए ब्रिटेन भारत सरकार के साथ मिलकर काम कर रहा है. समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में कट्टरता को कोई भी रूप स्वीकार्य नहीं है.

भारत के साथ संबंधों पर गर्व
अपने साक्षात्कार में सुनक ने आगे कहा कि भारत के लिए यह साल 2023 बड़ा है. भारत को इस तरह के वैश्विक नेतृत्व की मेजबानी करते हुए देखना सच में बेहद अद्भुत है. इस दौरान उन्होंने कहा कि मुझे अपनी भारतीय जड़ों, परंपराओं और भारत से संबंधों पर बेहद गर्व है.मुझे अपने सास-ससुर और उनकी सफलताओं पर भी बहुत गर्व है. उन्होंने अपनी कंपनी को शून्य से उठाकर दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित कंपनी बनाने तक का सफर तय किया है.


भारत जी 20 अध्यक्षता के लिए सही देश 
ब्रिटेन के पीएम ने कहा कि दुनिया के सामने आने वाली वैश्विक चुनौतियों से निपटने में हम भारत के साथ मिलकर काम करेंगे. भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है. यही कारण है कि भारत इतना महत्वपूर्ण पार्टनर है. जी 20 की अध्यक्षता पर उन्होंने कहा कि भारत जी 20 की अध्यक्षता सही समय पर कर रहा है.लंदन जी 20 समिट को सफल बनाने के लिए भारत के प्रयासों का समर्थन करने के लिए यहां मौजूद है.


प्रवासी भारतीय हैं लिविंग ब्रिज 
सुनक ने अपने साक्षात्कार में कहा कि इस समिट में मेरी और पीएम मोदी की मुलाकात वैश्विक चुनौतियों से निपटने और दिल्ली - लंदन के संबंधो को एक नई दिशा में विस्तारित करने पर होगी. ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने के समय भारतीय लोगों की प्रतिक्रिया बेहद शानदार और विनम्र थी.दोनों देशों के संबंधों को ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय प्रवासी और मजबूत बनाते हैं. यहां 16 लाख प्रवासी भारतीय शामिल हैं.

 

यह भी पढ़ेंः यूएन में पाक और चीन को भारत की दो टूक कहा- "आतंकियों को लेकर दोहरा रवैया छोड़ें कुछ मुल्क"