menu-icon
India Daily
share--v1

Cyber Fraud with Congress MLA: कांग्रेस MLA को लगा 80 लाख का चूना, बैंक अकाउंट देख छूटा पसीना, जानिए शातिरों का तरीका?

Cyber Fraud with Congress MLA: कांग्रेस विधायक ने एक संस्था को 10 लाख रुपये का चेक दिया था, जो बैंक में बैलेंस न होने पर बाउंस हो गया. जब मामले की जांच हुई तो सभी के होश उड़ गए.

auth-image
India Daily Live
Cyber fraud, Assam Congress MLA, fake signature, fake KYC, Cyber Crime

Cyber Fraud with Congress MLA: साइबर शातिरों का जाल इस कदर फैल रहा है कि बड़े-बड़े नेता भी उनके जाल में फंस रहे हैं. ताजा मामला असम से सामने आ रहा है. यहां के कांग्रेस विधायक प्रदीप सरकार को 80 लाख रुपये का चूना लगा है. मामले की जानकारी होने पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. उधर बैंक की ओर से भी इस मामले में छानबीन की जा रही है. 

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, फर्जी हस्ताक्षर और केवाईसी के बाद साइबर शातिरों ने असम में कांग्रेस विधायक प्रदीप सरकार के तीन बैंक खातों से कथित तौर पर 80 लाख रुपये उड़ा लिए है. यह मामला अभयपुरी दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक के संज्ञान में उस वक्त आया, जब उन्होंने 29 फरवरी को एक संस्था को 10 लाख रुपये का चेक दिया था, जो बैलेंस न होने पर बाउंस हो गया.

एक महीने में अलग-अलग दिन निकाली रकम 

प्रदीप सरकार ने कहा कि ये पैसा एक महीने में तीन बैंक खातों से निकाला गया है, जो भारतीय स्टेट बैंक में उनके नाम पर हैं. उन्होंने कहा कि मुझे अपने बैंक खातों से पैसे निकालने के संबंध में फोन या ईमेल पर कोई मैसेज भी नहीं मिला, क्योंकि शातिरों ने उनका फोन नंबर बदल दिया था. विधायक ने रिपोर्ट में कहा है कि वे पूरे फरवरी विधानसभा के बजट सत्र में व्यस्त थे.

जानकारी होने पर विधायक प्रदीप सरकार तत्काल अभयपुरी स्थित एसबीआई की होम ब्रांच पहुंचे और मामले की जानकारी ली. उन्होंने कहा कि शाखा प्रबंधक ने मेरे बैंक खाते में लेनदेन की जांच की और मुझे बताया कि बेंगलुरु समेत अलग-अलग स्थानों से कई बार में छोटे-छोटे अमाउंट में पैसे निकाले गए थे. 

हस्ताक्षर और केवाईसी दस्तावेज थे फर्जी

विधायक ने आगे कहा कि शाखा प्रबंधक ने हर ट्रांजेक्शन की जांच की और पाया गया कि तस्वीर किसी अलग व्यक्ति की थी, हस्ताक्षर जाली थे और केवाईसी के दौरान जमा किए गए दस्तावेज भी फर्जी थे. उन्होंने कहा कि मैंने पिछले कुछ महीनों में बैंक में कोई केवाईसी जमा नहीं किया है और कोई लेनदेन नहीं किया है. इसे सत्यापन के लिए मैंने शाखा प्रबंधक से सीसीटीवी फुटेज की जांच करने के लिए कहा है. 

उधर, प्रदीप सरकार ने कहा कि उन्होंने अभयपुरी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कराया है. मामले में एक बैंक कर्मचारी के शामिल होने का भी संदेह है. इस बीच पुलिस ने कहा कि सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जांच की जा रही है. जालसाजों को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा. 2021 विधानसभा चुनाव के दौरान नामांकन फॉर्म के साथ चुनाव आयोग को सौंपे गए हलफनामे के अनुसार उनके पास एसबीआई समेत पांच अलग-अलग बैंकों में पांच बैंक खाते हैं.