menu-icon
India Daily
share--v1

एग्जाम की रेस में फंसे स्टूडेंट्स की नैया पार कराएंगे जीतू भैया, कोटा फैक्ट्री में अब पंचायत के 'सचिव जी' दिखाएंगे अपना कमाल

नेटफ्लिक्स पर रिलीज 'कोटा फैक्ट्री' का तीसरा सीजन जल्द दस्तक देने वाला है. इसको लेकर फैंस काफी ज्यादा एक्साइटेड हैं और इसका ट्रेलर भी अब सामने आ चुका है.

auth-image
India Daily Live
kota factory
Courtesy: Social Media

Kota Factory Season 3: फैंस की खुशी का कोई ठिकाना नहीं क्योंकि पहले पंचायत, फिर मिर्जापुर और अब कोटा फैक्ट्री की भी रिलीज डेट की अनाउंसमेंट हो गई. मतलब इस साल एंटरटेनमेंट रुकने वाला नहीं है. नेटफ्लिक्स पर रिलीज 'कोटा फैक्ट्री' का तीसरा सीजन आने वाला है. पहले दो सीजन की सफलता के बाद अब इसके तीसरे सीजन की धमाकेदार एंट्री होने वाली है. मेकर्स ने ट्रेलर रिलीज कर दिया है जो कि काफी अलग और हटके लग रहा है.

इस सीरीज में आपको 'पंचायत 3' के सचिव जी दिखाई देने वाले है. सचिव जी जैसे पंचायत में सबकी परेशानी का समाधान करते हैं लेकिन खुद की पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे पाते, लेकिन यहां जीतू भैया कोटा के सभी बच्चों को उनके अच्छे भविष्य के लिए मोटिवेट करते दिखाई देंगे.

कोटा फैक्ट्री का ट्रेलर आया सामने

यह सीरीज उन बच्चों को रियलिटी चेक देने वाला है जो कि आनेवाले समय में जेईई (JEE) और नीट (NEET) जैसी परीक्षा को देने वाले हैं. देश के करोड़ों बच्चे जो कि IIT का सपना संजोकर कोटा या किसी अन्य जगह जाते हैं. कोटा फैक्ट्री उन्हीं स्टूडेंट्स की कहानी पर है जिनको जीतू भैया पूरी शिद्दत से पढ़ाते हैं.

ट्रेलर देखकर आपको समझ आएगा कि कैसे अब शिक्षा को भी बिजनेस बना दिया गया है. कोटा में पहुंचे बच्चों को तैयारी करवाने वाले इंस्टिट्यूशंस में भी काफी मारामारी चल रही है. Kota Factory में आपको जीतू भैया की दरियादिली आपका दिल जीतने में कामयाब होगी.

टेस्ट सीरीज की टेंशन से लेकर रैंक लाने के प्रेशर तक आपको इस सीरीज में सब कुछ दिखाई देगा. वेब सीरीज में जीतू भैया की फिलॉसफी थोड़ी अलग है जिससे कई स्टूडेंट रिलेट कर पाएंगे. इसके रिलीज डेट की बात करें तो कोटा फैक्ट्री 20 जून को Netflix पर रिलीज होने वाली है. ऐसे में हर कोई इसको देखने के लिए काफी ज्यादा एक्साइटेड है और वह इसके रिलीज होने का इंतजार नहीं कर पा रहा है.

ट्रेलर में एक महिला पूछती है 'जीतू भैया' क्यों जीतू सर क्यों नहीं? तब जीतू भैया कहते हैं कि- 'मैम क्या है कोटा में बच्चों के लिए सब कुछ होता है. ये लोग सिर्फ जेईई एस्पिरेंट्स नहीं है, हम लोग ये भूल जाते हैं कि ये 15-16 साल के बच्चे हैं, दुनिया भर के सेक्योररिटी है, टीचर डांट दें तो डिमोटिवेट हो जाते हैं, दोस्त ने कुछ कह दिया तो इनको बुरा लग जाता है. हर चीज ये लोग सीरीयस्ली लेते हैं. इनकी resposbility बहुत बड़ी चीज है जो कि जीतू सर नहीं निभा सकते हैं.'