share--v1

Zomato Case: आखिर कैसे 30 मिनट में लखनऊ से गुरुग्राम पहुंचा कबाब, खुल गया जोमैटो का राज

Zomato Case: गुरुग्राम के रहने वाले सौरव मल्ल ने जोमैटो से लखनऊ के एक रेस्टोरेंट से कबाब ऑर्डर किया. आश्चर्यजनक रूप से, कबाब 30 मिनट के अंदर उनके घर पहुंच गया. 500 किलोमीटर दूर से इतनी जल्दी डिलीवरी कैसे संभव है?

auth-image
India Daily Live
फॉलो करें:

Zomato Case: बहुत सारे लोग जोमैटो से खाना मंगवाते हैं. लेकिन एक ऐसा काम हुआ जिससे सब लोग चौंक गए. गुरुग्राम में एक आदमी ने लखनऊ के कबाब मंगवाए. वो बहुत जल्दी उसके घर पहुंच गए. किसी भी तरह से कबाब इतनी तेजी से इतनी दूरी तय करके पहुंच नहीं सकते. जाहिर है मामला बढ़ना ही था.

लखनऊ के कबाब 30 मिनट में गुरुग्राम में

लखनऊ से बने कबाब को 500 किलोमीटर दूर गुरुग्राम में 30 मिनट में कैसे भेजा गया? ये बात उस आदमी को समझ नहीं आई. उसने जोमैटो के खिलाफ कोर्ट में शिकायत की. उस आदमी का नाम सौरव मल्ल है. 

14 अक्टूबर 2023 को सौरव ने जोमैटो लेजेंड्स ऐप से चार तरह के खाने मंगवाए थे. तीन खाने दिल्ली के दुकानों से थे और एक लखनऊ से. उसमें चिकन कबाब रोल, चॉकलेट केक, सैंडविच और गलौटी कबाब थे. लखनऊ का फेमस गलौटी कबाब आधे घंटे में ही उसके घर आ गया.

कस्टमर को हुआ शक

उसके बाद उस आदमी को शक हुआ कि ये कैसे हो सकता है. कबाब की दुकान तो 500 किलोमीटर से भी ज्यादा दूर है. उसने अपने वकीलों के साथ जोमैटो पर केस किया. अब जोमैटो को बताना होगा कि उसने इतनी दूर से खाना इतनी जल्दी कैसे पहुंचाया.

खाना इतनी जल्दी नहीं आ सकता

एक अखबार की खबर के अनुसार, जोमैटो लेजेंड्स बहुत सी जगहों के होटलों से गरमा-गरम खाना भेजती है. सौरव की शिकायत पर कोर्ट ने जोमैटो को बुलाया है. सौरव के वकीलों का कहना है कि लखनऊ से खाना इतनी जल्दी नहीं आ सकता है, शायद वो खाना कहीं रखा हुआ था.

जोमैटो लीजेंड्स को बंद करने की मांग

सौरव के वकीलों ने ध्यान दिलाया की शक इस बात से पैदा हुआ कि खाना रेस्टोरेंट की पैकिंग की जगह पर जौमेटी की पैकिंग में पहुंचा था. याचिकाकर्ता ने जोमैटो लीजेंड्स की सेवाओं को पूरी तरह खत्म करने के लिए कहा है. क्योंकि इसमें ताजा खाना नहीं होने से कस्टमर्स के साथ धोखा किया जाता है.

Also Read

First Published : 13 February 2024, 04:49 AM IST