menu-icon
India Daily
share--v1

अफ्रीका में लोग मजे से खा रहे 'मच्छर वाला बर्गर', एक्सपर्ट्स बोले- मीट से बेहतर है कीड़े खाना

एक मच्छर बर्गर बनाने में 60 हजार मच्छरों का इस्तेमाल होता है. अफ्रीम में लोग बड़े चाव से इस बर्गर का आनंद ले रहे हैं. सोशल मीडिया पर मच्छर वाला बर्गर खूब वायरल हो रहा है. लोग सवाल पूछ रहे हैं कि कीड़ों को खाना सेहत के लिए कितना फायदेमंद या हानिकारक है. जब आप एक्सपर्ट्स की राय जानेंगे तो आपके होश उड़ जाएंगे.

auth-image
India Daily Live
Mosquito Burgers
Courtesy: social media

Mosquito Burgers: सोशल मीडिया पर एक वीडियो आग की तरह वायरल हो रहा है इस वीडियो में आप देखेंगे कि अफ्रीका में लोग मच्छरों से बने हुए बर्गर को बड़े ही चाव से खा रहे हैं. इस वीडियो ने लोगों के मन में यह जानने की उत्सुकता पैदा करती है कि आखिर मच्छरों से बना हुआ बर्गर खाना स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिहाज से हानिकारक है या फायदेमंद. 

एक बर्गर बनाने में 60,000 मच्छर का इस्तेमाल

पॉपुलर कंटेंट क्रिएटर क्रिस अशोक ने इस मच्छर बर्गर पर एक वीडियो भी बनाया है. इस वीडियो में उन्होंने बताया कि एक मच्छर बर्गर को बनाने में लगभग 600,000 मच्छरों का इस्तेमाल होता है. अफ्रीका में इन मच्छरों को विक्योरिया नदी के किनारे से पकड़ा जाता है जो बरसात के मौसम में बड़ी संख्या में वहां मंडराते हैं.

उन्होंने बताया कि अगर आप सोच रहे हैं कि कीड़ों से बना हुआ बर्गर खाने से  ये लोग बीमार हो जाएंगे तो आप बिल्कुल गलत हैं क्योंकि कीड़ों को खाना बहुत कम मामलों में ही नुकसानदायक या हानिकारक साबित होता है. 

ज्यादातर मामलों में कीड़ों को खाने से शरीर को जानवरों का मांस खाने की तुलना में ज्यादा प्रोटीन मिलता है. हंग्री कोआला की वरिष्ठ पोषण विशेषज्ञ इप्सिता चक्रवर्ती भी अशोक से सहमत हैं. वे कहती हैं कि कीड़े मकोड़े प्रोटीन  और पोषण से भरपूर होते हैं. इनमें आधुनिक मीट जैसे बीफ और चिकन से ज्यादा प्रोटीन होता है. उन्होंने कहा कि कीड़ों में उच्च गुणवत्ता का प्रोटीन होता है, इनमें हमारे शरीर के लिए आवश्यक सभी जरूरी अमीनो एसिड भी होते हैं.

चक्रवर्ती ने कहा कि कीड़ों से हमें कई तरह के विटामिन मिलते हैं जिसमें बी12, राइबोफ्लेविन, आइरन, जिंक, मैग्नीशिमय जैसे आवश्यक मिनिरल्स शामिल हैं. उन्होंने बताया कि कुछ कीड़े हमारे शरीर को हेल्दी वसा भी प्रदान करते हैं जिसमें ओमेगा-3, ओमेगा-6 फैटी एसिड और चिटिन जो एक प्रकार का फाइबर होता है जो पाचन क्रिया में मदद करता है, शामिल हैं.

दुनिया में कैसे बढ़ रहा कीड़ों को खाने का चलन
चक्रवर्ती कहती हैं कि कीड़े खाने की प्रथा अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका में सदियों से रही है लेकिन पश्चिम का समाज अभी तक कीड़ों के सेवन को घृणा की दृष्टि से देखता रहा है लेकिन अब यह चलन बदल रहा है. कीड़ों को खाने के लाभ को देखते हुए पश्चिम में भी अब इनका सेवन बढ़ रहा है. शिक्षा के माध्यम से भी कीड़ों को खाने के लेकर जागरूकता फैलाई जा रही है.

पर्यावरण पर क्या होता है प्रभाव
कीड़ों को खाने का चलन बढ़ने से इनकी खेती भी जोर पकड़ रही है. पशु पालन के बजाय कीड़ों का पालन एक स्थाई और सस्ता विकल्प है. कीड़े पशुओं के मुकाबले कम ग्रीनहाउस गैस छोड़ते हैं.

इसके अलावा पशु के मांस के मुकाबले कम मात्रा में कीड़े खाने से आपको ज्यादा प्रोटीन मिलता है. साथ ही कीड़ों की खेती करने में कम पानी और जमीन की जरूरत होती है. साथ ही आपको कम चारे की भी जरूरत होती है.

कीड़ों को खाने में सावधानी
कीड़ों को खाना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है लेकिन कुछ मामलों में यह हानिकारक साबित हो सकता है. अगर अनियंत्रित वातावरण में कीटों का पालन किया जाए तो ये संक्रमित हो सकते हैं और इन्हें खाने से आपको बीमारियां हो सकती हैं.