menu-icon
India Daily
share--v1

भारत के मोबाइल नंबर्स +91 से क्यों शुरू होते हैं? यहां जानें पूरा गणित

India Country Code: भारत के फोन नंबर के साथ +91 लगा होता है जो देश का कंट्री कोड है. बिना इसके भारत में कोई कॉल पैच नहीं हो सकता है. चलिए जनते हैं कि यह कंट्री कोड क्यों लगाया जाता है. 

auth-image
India Daily Live
India country code
Courtesy: Canva

India Country Code: जब भी कोई मोबाइल नंबर +91 से शुरू होता है तो उससे समझ आ जाता है कि यह भारत का ही होगा. क्योंकि +91 भारत का ही कंट्री कोड है. लेकिन क्या आपने कभी ये जानने की कोशिश की है कि भारत का कंट्री कोड +91 ही क्यों रखा गया है? या फिर इस कोड को रखने के पीछे का कारण क्या था? अगर नहीं, तो हम आपको इसके बारे में विस्तार से बता रहे हैं कि +91 ही भारत का कोड क्यों है और इसे क्यों रखा गया है. 

कौन डिसाइड करता है ये कोड:

बता दें कि हर देश का कंट्री कोड इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन यूनियन ही चुनता है. यह एक स्पेशल एजेंसी है जो यूनाइटेड नेशन्स का हिस्सा है जो इंफॉर्मेशन और कम्यूनिकेशन टेक्नोलॉजी से जुड़े मसलों का निपटारा करती है. 

भारत का कोड +91 ही क्यों रखा गया:

हर देश का कोड उसके जोन और नंबर पर निर्भर करता है. जो देश जिस जोन का होता है उसका कोड वही रखा जाता है. बता दें कि भारत 9th जोन का पहला देश है. यही कराण है कि भारत का कोड +91 पड़ा. इसमें + का साइन इंटरनेशनल एक्सेस कोड को दिखाता है. हालांकि, +90 तुर्की का नंबर है लेकिन रिपोर्ट्स के अनुसार, पहला देश भारत को कहा जाता है जिसके चलते भारत का कोड +91 रखा गया है.

+91 को इंटरनेशनल कॉल के दौरान क्यों लगाना पड़ता है?

भारत के बाहर से कोई नंबर डायल करते समय, कॉल को इंडियन टेलिकॉम नेटवर्क पर रूट कनरे के लिए +91 को फोन नंबर से पहला लगाना होता है. अगर नहीं किया गया तो वो इंडियन नेटवर्क पर पैच नहीं होगी. कॉल को गलत रूट करने से बचने के लिए कंट्री कोड का इस्तेमाल करना होता है.