menu-icon
India Daily
share--v1

डर के मारे घर नहीं जा रहे पाकिस्तानी खिलाड़ी! T20 विश्वकप से बाहर होने के बाद जानें कहां का बना प्लान

T20 World Cup 2024: अमेरिका और वेस्टइंडीज की मेजबानी में खेले जा रहे T20 वर्ल्ड कप में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद पाकिस्तानी टीम दुबई होते हुए 19 जून को पाकिस्तान पहुंचेगी. पाकिस्तानी क्रिकेट टीम भले ही 19 जून को पाकिस्तान वापस लौट रही हो, लेकिन कुछ खिलाड़ी छुट्टियां बिताने के लिए अमेरिका से सीधे ब्रिटेन जाने वाले हैं.

auth-image
India Daily Live
Pakistan Cricket Team
Courtesy: Social/Twitter

T20 World Cup 2024: अमेरिका में टी20 वर्ल्ड कप के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद पाकिस्तानी क्रिकेट टीम स्वदेश लौट रही है. हालांकि, इस वापसी में एक दिलचस्प मोड़ है. कप्तान बाबर आजम सहित पांच अन्य खिलाड़ी - आजम खान, हारिस राउफ, शादाब खान, मोहम्मद आमिर और इमाद वसीम - पाकिस्तान वापसी से पहले सीधे यूके जाएंगे. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने इस छुट्टी को मंजूरी दे दी है.

खिलाड़ियों का यह फैसला चर्चा का विषय बन गया है. जहां प्लेयर्स का दावा है कि वो लगातार क्रिकेट के चलते हो रहे मेंटल स्ट्रेस से उबरने के लिए परिवार के साथ समय बिताने के लिए ब्रेक ले रहे हैं तो वहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि प्लेयर्स अपने हालिया प्रदर्शन के चलते लगातार आलोचना का सामना कर रहे हैं और ऐसे में उन्हें वापस पाकिस्तान लौटने से भी डर लग रहा है क्योंकि उन्हें फैन्स के गुस्से का सामना करना पड़ सकता है. इसे देखते हुए ही प्लेयर्स ने पाकिस्तान जाने के बजाय छुट्टियां मनाने के लिए यूके जाने का फैसला किया है.

पाकिस्तान ने किया अपना सबसे खराब प्रदर्शन

एक तरफ, 2009 के चैंपियन पाकिस्तान का यह टी20 वर्ल्ड कप प्रदर्शन शायद उनका अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन रहा है. ग्रुप स्टेज में ही बाहर होना उनके लिए किसी सदमे से कम नहीं है. कनाडा, आयरलैंड, अमेरिका और भारत वाले ग्रुप में हार खिलाड़ियों, कोचों, बोर्ड और फैंस के लिए एक कड़वा सच है. पाकिस्तान को पहले मैच में अमेरिका के खिलाफ और फिर भारत के खिलाफ 6 रन से हार का सामना करना पड़ा था, जिसके चलते उनकी सेमीफाइनल की राह खत्म हो गई. ऐसे निराशाजनक प्रदर्शन के बाद छुट्टियों पर जाने का फैसला कई लोगों को हल्का लग सकता है.

दूसरी तरफ, खिलाड़ियों का ये कहना है कि उन्हें टूर्नामेंट के दबाव से उबरने और मन को शांत करने के लिए कुछ समय चाहिए. निरंतर हार का मनोबल पर भी असर पड़ता है, और खिलाड़ी शायद अपने परिवार और दोस्तों के साथ कुछ समय बिताकर वापसी के लिए खुद को तरोताजा करना चाहते हैं.

यूके में कुछ क्लब के साथ खेल सकते हैं पाकिस्तानी प्लेयर्स

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि खिलाड़ी यूके में अपने प्रवास के दौरान कुछ स्थानीय इंग्लिश क्लबों में खेलने के अवसर तलाश सकते हैं. हालांकि ये काउंटी क्लब नहीं हैं, फिर भी यह अभ्यास उन्हें फायदा पहुंचा सकता है.

खैर, पाकिस्तान का अगला इंटरनेशनल मैच अगस्त में है, इसलिए खिलाड़ियों को वापसी की जल्दी नहीं है. पाकिस्तान को बांग्लादेश की मेजबानी में दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है. हेड कोच गैरी कर्स्टन और असिस्टेंट कोच अजहर महमूद भी अपने-अपने घरों को लौट गए हैं और टेस्ट सीरीज से पहले वापस आने की उम्मीद है.

अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि पाकिस्तानी मीडिया और पूर्व क्रिकेटर इस खबर पर कैसा रिएक्शन देते हैं. वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खराब प्रदर्शन के बाद देश में आलोचनाओं का दौर चल रहा है. पूर्व क्रिकेटरों ने कड़े कदम उठाने की मांग की है. वसीम अकरम ने टीम में बदलाव की मांग की है, तो शोएब मलिक चाहते हैं कि बाबर कप्तानी छोड़ दें. इसके अलावा, पाकिस्तानी टीम में खिलाड़ियों के बीच मनमुटाव की खबरें भी आती रहती हैं.

कंट्रोवर्सियल प्रेस कॉन्फ्रेंस के साथ खत्म हुआ पाकिस्तान का सफर

अमेरिका में पाकिस्तान का सफर कप्तान बाबर की एक विवादस्पद प्रेस कॉन्फ्रेंस के साथ खत्म हुआ, जहां उन्होंने बताया कि पिछले साल भारत में हुए वनडे वर्ल्ड कप के बाद उन्हें फिर से कप्तान बनाने का फैसला पीसीबी का था. अमेरिका और भारत से हार के बाद सुपर 8 में क्वालीफाई करने की पाकिस्तान की उम्मीदें कमजोर पड़ गई थीं. आखिरी उम्मीद अमेरिका-आयरलैंड मैच के नतीजे पर टिकी थी, लेकिन बारिश के कारण मैच रद्द हो गया और अंक बंटने से पाकिस्तान को बाहर होना पड़ा.

यह देखना बाकी है कि यूके की छुट्टियां पाकिस्तानी खिलाड़ियों को अपनी खोए हुए फॉर्म को वापस पाने में मदद करती हैं या नहीं. क्या वे अगस्त में होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से तरोताजा होकर वापसी करेंगे? पाकिस्तान क्रिकेट टीम के प्रदर्शन में निरंतरता लाने के लिए पीसीबी क्या कदम उठाएगा, इस पर भी सबकी निगाहें रहेंगी.

फिलहाल, एक बात तो साफ है कि पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के लिए यह एक चुनौतीपूर्ण समय है. उन्हें न केवल अपने आगामी मैचों के लिए रणनीति बनानी होगी बल्कि आलोचकों को जवाब देने के लिए अपने प्रदर्शन में भी सुधार लाना होगा. यह देखना होगा कि यूके की छुट्टियां उनके लिए फायदेमंद साबित होती हैं या नहीं. पाकिस्तानी फैंस यही उम्मीद कर रहे हैं कि उनकी टीम मजबूती से वापसी करेगी और भविष्य में बेहतर प्रदर्शन करेगी.