menu-icon
India Daily
share--v1

पाकिस्तानियों की हालत हुई बद से बदतर, भारतीयों को किडनैप कर परिवार वालों से मांग रहे हैं लाखों की फिरौती

World News: पाकिस्तानियों ने भारतीय नागरिकों का अपहरण करके उनके परिवार वालों से लाखों रुपये की फिरौती मांगी थी. इस मामले में अब पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

auth-image
India Daily Live
kidnap
Courtesy: Social Media

World News: 3 पाकिस्तानियों ने तुर्किये में एक भारतीय नागरिक को किडनैप कर लिया था. भारतीय नागरिक को छोड़ने के लिए उन्होंने 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी. ये तीनों पाकिस्तानी नागरिक तुर्किये में शरण पाना चाह रहे हैं. वहीं दूसरी ओर पाकिस्तानियों ने 2 भारतीय नागरिकों को तीन सप्ताह तक के लिए कंबोडिया में अपहरण करके रखा था. उनके परिवार वालों से फिरौती की मांग कर रहे थे. अब सभी की गिरफ्तारी हो चुकी है. 

तुर्किये और कंबोडिया में भारतीय नागरिकों का अपहरण करने वाले पाकिस्तानी नागरिक गिरफ्तार हो चुके हैं. तुर्किये पुलिस ने 3 तो कंबोडिया पुलिस ने 2 पाकिस्तानियों को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने किया गिरफ्तार

तुर्किये पुलिस ने 20 मई को बताया कि उन्होंने भारतीय का अपहरण और फिरौती मांगने के आरोप में  तीन पाकिस्तानियों को गिरफ्तार कर लिया है. खामा पोर्टल पर ये रिपोर्ट पब्लिश की गई थी.    

पाकिस्तानियों ने भारत के राधाकृष्णन का अपहरण किया था जो इस्तानबुल में एक रेस्टोरेंट में काम करते थे. पैसों की लालच में पाकिस्तानियों ने राधा कृष्णन को नौकरी का ऑफर दिया. इसके बाद उन्होंने एडर्न शहर के पश्चिमी शहर से भारतीय नागरिक का अपहरण कर लिया.

पाकिस्तानियों ने राधाकृष्णन के हाथ बांध दिए. इसके बाद उन्होंने धमकाने वाला वीडियो उनके परिवार को भेजा और फिरौती की मांग की. किडनैपरों ने राधाकृष्णन के परिवार वालों से 20 लाख रुपये मांगे थे. पुलिस ने पाकिस्तानियों को गिरफ्तार करके उनके पास से एक पिस्टल भी बरामद की है.

कंबोडिया में 2 भारतीयों का अफहरण  

वहीं, कंबोडिया की राजधानी नोम पेन्ह से पुलिस ने  दो भारतीय नागरिकों का अपहरण करके उन्हें तीन सप्ताह तक बंदी बनाकर रखने के आरोप में दो पाकिस्तानियों को गिरफ्तार किया. भारतीय नागरिक  मोहम्मद साद और सुदित कुमार को 25 अप्रैल को अपहरण हुआ था. 16 मई को पुलिस ने उन्हें छुड़ाया था.

अपहरण करने के बाद पाकिस्तानी अपहरणकर्ता ने भारतीय नागरिकों के परिवार वालों से 10-10 हजार डॉलर की मांग की थी.