share--v1

पाकिस्तान में चुनाव बाद गठबंधन की तलाश में बिलावल, जरदारी पहुंचे लाहौर

Pakistan Election 2023 : बिलावल भुट्टो और आसिफ अली जरदारी लाहौर में गठबंधन की तलाश में लाहौर पहुंचे हैं जहां वे नवाज शरीफ से चर्चा करेंगे. पाकिस्तान में चुनाव परिणाम किसी एक पार्टी के पक्ष में नहीं नजर आ रहे हैं. नवाज शरीफ ने सरकार बनाने के लिए गठबंधन की पेशकश भी की है.

auth-image
Antriksh Singh
फॉलो करें:

पाकिस्तान चुनाव 2023: पाकिस्तान के आम चुनावों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने के बाद, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी गठबंधन बनाने की संभावना तलाशने के लिए लाहौर पहुंचे हैं.

गठबंधन की संभावनाएं

रिपोर्ट के मुताबिक वे पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) सुप्रीमो नवाज शरीफ से मुलाकात करेंगे ताकि चुनाव बाद गठबंधन की संभावनाएं तलाशी जा सकें.

इसके अलावा, पंजाब में पीपीपी और पीएमएल-एन के नेतृत्व के बीच भी बैठक होने की संभावना है.

नवाज जता चुके हैं गठबंधन में सरकार की इच्छा

नवाज शरीफ ने पहले ही पीपीपी, जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (एफ) और मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट (पाकिस्तान) के साथ मिलकर सरकार बनाने की इच्छा जताई है.

जियो न्यूज के अनुसार, निर्दलीय उम्मीदवार, जिनमें ज्यादातर पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के समर्थित हैं, 87 सीटों पर आगे चल रहे हैं. पीएमएल-एन 60 सीटों और पीपीपी 45 सीटों पर आगे है.

गठबंधन की महत्वपूर्ण भूमिका

यह अभी स्पष्ट नहीं है कि कौन सी पार्टी सरकार बनाएगी, लेकिन यह स्पष्ट है कि गठबंधन की महत्वपूर्ण भूमिका होगी.

इसी बीच, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपनी पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) की जीत का दावा किया है. यही दावा इमरान खान की पार्टी की ओर से भी जारी किया गया है.

नवाज शरीफ ने क्या कहा

नवाज शरीफ ने लाहौर में एक भाषण में कहा कि उन्होंने अपने भाई शहबाज शरीफ को अन्य पार्टियों के नेताओं फजलुर रहमान, खालिद मकबूल सिद्दीकी और आसिफ अली जरदारी के साथ मिलने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि एक स्थिर और मजबूत पाकिस्तान बनाने के लिए सभी पार्टियों को साथ मिलकर काम करना चाहिए.

हालांकि अभी तक चुनाव नतीजे पूरी तरह से नहीं आए हैं, लेकिन नवाज शरीफ अपनी पार्टी को जीत का दावेदार मान रहे हैं. उन्होंने कहा, "पाकिस्तान को कम से कम 10 साल की स्थिरता चाहिए. हम झगड़े नहीं चाहते, हम सभी को साथ बैठकर मुद्दों को सुलझाना चाहिए और पाकिस्तान को 21वीं सदी में ले जाना चाहिए."

इमरान खान की पार्टी के समर्थन वाले लोग आगे

अभी तक गिनती के रुझान PML-N के पक्ष में नहीं दिख रहे हैं, लेकिन उनकी पार्टी का मानना है कि उनके उम्मीदवारों ने बहुमत हासिल किया है और वे अगली सरकार बनाएंगे. गौरतलब है कि इमरान खान की पार्टी के समर्थन वाले उम्मीदवार अभी तक 100 से अधिक सीटों पर आगे चल रहे हैं.

डॉन न्यूज के मुताबिक पाकिस्तान के पंजाब चुनाव में अब तक जारी नतीजों के अनुसार, इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के समर्थन वाले निर्दलीय उम्मीदवार 52 सीटों पर आगे चल रहे हैं. ये जानकारी चुनाव आयोग ने जारी की है.

गौरतलब है कि कुछ आपराधिक मामलों में दोषी साबित होने के बाद इमरान खान को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित कर दिया गया था. इन कानूनी बाधाओं के बाद, पीटीआई नेताओं और समर्थकों ने निर्दलीय उम्मीदवारों के रूप में चुनाव लड़ने का फैसला किया था.

Also Read

First Published : 10 February 2024, 04:51 AM IST