share--v1

तिहाड़ पहुंचे अरविंद केजरीवाल, अब नया पता बैरक नंबर 2, सिक्योरिटी टाइट

Arvind Kejriwal: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. तिहाड़ में केजरीवाल को बैरक नंबर-2 में अकेले रखा जाएगा. इस बैरक को कुछ दिन पहले ही खाली किया गया है.

auth-image
India Daily Live

Arvind Kejriwal: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को शराब घोटाले में सोमवार को राउज एवेन्यू कोर्ट ने 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. अब केजरीवाल का नया ठिकाना तिहाड़ जेल का बैरक नंबर 2 है. मिल रही जानकारी के अनुसार सीएम केजरीवाल को इस बैरक में अकेले रखा जाएगा. बता दें, इसी बैरक में आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह रह रहे थे. संजय सिंह को हाल में ही बैरक नंबर 2 से शिफ्ट कर बैरक नंबर-5 में रखा गया है.

दरअसल, दिल्ली कथित शराब घोटाला मामले में रिमांड खत्म होने के बाद सीएम केजरीवाल को ईडी ने राऊज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया. ईडी ने कोर्ट को बताया कि सीएम केजरीवाल पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं. इसके बाद कोर्ट ने केजरीवाल को 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने का फैसला सुनाया और अब करीब 3 घंटे बाद सीएम केजरीवाल को कड़ी सुरक्षा में तिहाड़ जेल भेजा गया.

तिहाड़ में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

सीएम केजरीवाल को 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं में रोष देखने को मिल रहा है. तिहाड़ जेल के बाहर पार्टी कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन जारी है. तिहाड़ जेल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. सीएम केजरीवाल 24 घंटे सीसीटीवी की निगरानी में रहेंगे.

कैसा होगा केजरीवाल का बैरक

अरविंद केजरीवाल को बैरक नंबर-2 में एक कंबल और तकिया दी जाएगी. इसके अलावा पीने का पानी भी वहीं पर मौजूद होगा. हर जेल में एक लाइब्रेरी होती है अरविंद केजरीवाल अगर चाहे तो उसे लाइब्रेरी में जाकर पढ़ सकते हैं. केजरीवाल को जेल में अलग से कोई सुविधा नहीं दी जाएगी. जेल मैनुअल के हिसाब से जो चीज होगी वहीं अरविंद केजरीवाल को दी जाएगी. बता दें, केजरीवाल ने एक याचिका दायर कर अपने साथ तीन किताबें, दवाएं और कुछ अन्य सामान ले जाने की इजाजत मांगी गई है. 

जेल में क्या होगी दिनचर्या?

जेल में सभी कैदियों के लिए समान दिनचर्या होती है. सुबह सूरज निकलते ही सारे बैरक खोल दिए जाते हैं. इसके बाद नाश्ता दिया जाता है. अगर कैदी को कोर्ट जाना हो या किसी से मिलना हो तो उसे तैयार किया जाता है. 11 बजे के करीब सभी कैदियों को खाना परोसा जाता है. 

खाने में एक सब्जी और पांच रोटी दी जाती है. जिस कैदी को रोटी नहीं खानी है, उसे चावल दिया जाता है. इसके बाद दोपहर 12 बजे सभी को बैरक में बद कर दिया जाता है. फिर शाम के 3 बजे बैरक खोला जाता है और कैदियों को बाहर निकाला जाता है. इसके बाद चाय दी जाती है. शाम में 5.30 बजे कैदियों को रात का खाना दिया जाता है, जिसमें दाल, एक सब्जी और पांच रोटी होती हैं. फिर 7 बजे तक सारे बैरक बंद कर दिए जाते हैं. 

केजरीवाल पर क्या हैं आरोप?

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर नई शराब नीति को लागू कराने में भष्टाचार का आरोप है. इस मामले में पहले से ही पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और आप नेता संजय सिंह जेल में हैं. ईडी ने केजरीवाल को मामले में मुख्य साजिशकर्ता करार दिया है. ईडी की ओर से शिकंजा कसने के बाद भी अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा नहीं दिया है और जेल से ही सरकार चलाने की बात कही है. 

Also Read