share--v1

पेरासिटामोल, एमोक्सिसिलिन सहित ये 58 दवाएं क्वालिटी टेस्ट में फेल, कहीं आप तो नहीं कर रहे सेवन

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) ने आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के 58 नमूनों के खिलाफ अलर्ट जारी किया है क्योंकि ये दवाएं दवा नियामक द्वारा मार्च में किए गए लेटेस्ट ड्रग सेफ्टी अलर्ट में फेल साबित हुई थीं.

auth-image
India Daily Live

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) ने आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के 58 नमूनों के खिलाफ अलर्ट जारी किया है क्योंकि ये दवाएं दवा नियामक द्वारा मार्च में किए गए लेटेस्ट ड्रग सेफ्टी अलर्ट में फेल साबित हुई थीं.

2 सैंपलों को घोषित किया गया नकली
अपनी मासिक सूची में CDSCO ने फरवरी में लिए गए 1,167 सैंपलों में से उन दवाओं को चिन्हित किया है जो गुणवत्ता के मानक पर खरा नहीं उतरी थीं. सूची के अनुसार, दवाओं के 1,018 सैंपल मानकों पर खरे उतरे जबकि 2 सैंपलों को नकली घोषित कर दिया गया.

आम तौर पर इस्तेमाल होने वाली इन दवाओं के सैंपल फेल
आम तौर पर इस्तेमाल होने वाली जिन दवाओं के सैंपल सुरक्षा मानकों पर खरे नहीं उतरे हैं उनमें एमोक्सिसिलिन, विटामिन डी3 टैबलेट, ओफ़्लॉक्सासिन, हेपरिन, क्लैरिथ्रोमाइसिन, पेरासिटामोल, ओसेल्टामिविर, डेफेरासिरोक्स, पैंटोप्राज़ोल गैस्ट्रोरेसिस्टेंट टैबलेट, टेल्मिसर्टन आदि शामिल हैं.

इन नामी-गिरामी फार्मा कंपनियों के सैंपल हुए फेल
लिस्ट के अनुसार, कुछ नामी गिरामी कंपनियां जिनके सैंपल फेल हुए हैं उनमें ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स, माइक्रो लैब्स, सन फार्मास्युटिकल्स, ग्लेनमार्क लाइफसाइंसेज और एल्केम लेबोरेटरीज शामिल हैं. 

क्या है सैंपलों के फेल होने का कारण
दवा नियामक CDSCO ने इन सैंपलों के फेल होने के पीछे डिसइंटीग्रेशन, स्टेबिलिटी, यूनिफॉर्मिटी ऑफ डिस्पर्सन, एस्से और डिस्सॉल्यूशन और कुछ अन्य कारण बताए हैं.

Also Read

First Published : 01 April 2024, 02:03 PM IST