menu-icon
India Daily
share--v1

Modi Government 3.0: शपथ ग्रहण के बाद अब कामकाज की बारी, शाम 5 बजे कैबिनेट बैठक से पहले विभागों का बंटवारा?

Modi Government 3.0: राष्ट्रपति भवन में भव्य शपथ ग्रहण समारोह के बाद मोदी सरकार 3.0 का कार्यकाल शुरू हो गया. आज शाम 5 बजे मोदी कैबिनेट की पहली बैठक है. इससे पहले मंत्रियों के विभागों का बंटवारा हो सकता है.

auth-image
India Daily Live
Modi Government 3.0
Courtesy: BJP Twitter Handle

Modi Government 3.0: नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति भवन में रविवार को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. जवाहरलाल नेहरू के बाद नरेंद्र मोदी लगातार तीसरा कार्यकाल हासिल करने वाले दूसरे प्रधानमंत्री बन गए. राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 72 सदस्यीय केंद्रीय मंत्रिपरिषद को पद की शपथ दिलाई, जिसमें 30 कैबिनेट मंत्री और 5 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) शामिल हैं. शपथ ग्रहण के बाद अब कामकाज की बारी है. शपथ लेने के 24 घंटे के अंदर मोदी कैबिनेट की आज शाम 5 बजे बैठक होनी है. इससे पहले मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा होने की उम्मीद है.

भाजपा फिलहाल लोकसभा में बहुमत में नहीं है, लेकिन टीडीपी और जेडीयू समेत NDA के अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार बना ली है. कैबिनेट में 37 पुराने चेहरों को शामिल नहीं किया गया है, जबकि 38 नए चेहरे शामिल किए गए हैं. कुछ बड़े नेताओं को बरकरार रखा गया है, उनमें राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, एस जयशंकर और पीयूष गोयल समेत 19 नाम शामिल है. 

मंत्रिमंडल में इन नेताओं को भी रखा गया बरकरार

मंत्रिमंडल में जिन नेताओं को बरकार रखा गया है, उनमें धर्मेंद्र प्रधान, प्रल्हाद जोशी, सर्बानंद सोनोवाल, वीरेंद्र कुमार, गिरिराज सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, अश्विनी वैष्णव, गजेंद्र सिंह शेखावत, किरेन रिजिजू, हरदीप सिंह पुरी, मनसुख मंडाविया, भूपेंद्र यादव और जी किशन रेड्डी शामिल हैं.

मंत्रिमंडल में नए सदस्यों में जेपी नड्डा भी शामिल हैं, जिनका भाजपा अध्यक्ष के रूप में कार्यकाल इसी महीने समाप्त हो रहा है. इसके अलावा, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, गुजरात भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल शामिल हैं. 

मोदी के पिछले कार्यकाल में राज्य मंत्री रहीं अन्नपूर्णा देवी को कैबिनेट में जगह मिली है. मोदी के पहले कार्यकाल में मंत्री रहे जुएल ओराम को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.

स्वतंत्र प्रभार वालों में कौन-कौन शामिल?

पांच राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भाजपा के राव इंद्रजीत सिंह, जितेंद्र सिंह, अर्जुन राम मेघवाल (तीनों मोदी 2.0 में भी इसी पद पर थे), शिवसेना के बुलढाणा सांसद प्रतापराव जाधव और आरएलडी के जयंत चौधरी हैं. 

NDA में सहयोगी किस दल को क्या मिला?

मंत्रिमंडल में गठबंधन सहयोगियों के नेताओं में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी, टीडीपी के के राम मोहन नायडू, श्रीकाकुलम से तीन बार सांसद , जेडी(यू) के राजीव रंजन उर्फ ​​ललन सिंह, एलजेपी के चिराग पासवान और एचएएम के जीतन राम मांझी शामिल हैं.

38 नए चेहरों में किसे क्या मिला?

 मोदी सरकार 3.0 में कुल 38 नए चेहरे हैं. इनमें 11 कैबिनेट, 2 राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 25 राज्य मंत्री हैं. पिछली कैबिनेट में 26 सदस्य थे. तीन स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री और 42 राज्य मंत्री थे.

नए मंत्रिपरिषद में 7 महिलाएं हैं, जिनमें से दो (निर्मला सीतारमण और अन्नपूर्णा देवी) कैबिनेट में हैं और 5 राज्य मंत्री हैं. इनमें अनुप्रिया पटेल, शोभा करंदलाजे, रक्षा खडसे, सावित्री ठाकुर और निमुबेन जयंतीभाई बंभानिया शामिल हैं.

करीब 10 हजार अतिथियों के बीच गूंजा... मैं नरेंद्र दामोदर दास मोदी...

करीब 10 हजार अतिथियों के बीच नरेंद्र मोदी और उनकी कैबिनेट ने शपथ ली. कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति भवन में आयोजित ये सबसे बड़ा कार्यक्रम था. मेहमानों में पड़ोसी 7 देशों के नेता शामिल थे. इनमें श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे; मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जु; सेशेल्स के उपराष्ट्रपति अहमद अफिफ; बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ, नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' और भूटान के प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे शामिल थे.

इस अवसर पर पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल धनखड़, अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्री, भारत के चीफ जस्टिस डी.वाई. चंद्रचूड़, शाहरुख खान और रजनीकांत जैसे एक्टर, भारतीय उद्योग जगत की प्रमुख हस्तियां और आध्यात्मिक गुरु भी उपस्थित थे.

इनके अलावा, गठबंधन सहयोगी दलों के नेता भी शपथ ग्रहण कार्यक्रम में मौजूद थे. इनमें टीडीपी के एन चंद्रबाबू नायडू, बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे, एनसीपी के अजीत पवार और जनसेना पार्टी के नेता पवन कल्याण शामिल थे.

चुनाव तो जीते, लेकिन कैबिनेट में नहीं मिली जगह

पूर्व कैबिनेट मंत्री जो अपनी लोकसभा सीटें जीत गए लेकिन इस सरकार में जगह नहीं बना पाए, उनमें हिमाचल प्रदेश से अनुराग ठाकुर, महाराष्ट्र से नारायण राणे और गुजरात से पुरुषोत्तम रूपाला शामिल हैं. कैबिनेट से हटाए गए अन्य लोगों में आरके सिंह, महेंद्र नाथ पांडे, स्मृति ईरानी और अर्जुन मुंडा शामिल हैं - ये सभी चुनाव हार गए.