menu-icon
India Daily
share--v1

AAP दिल्ली में कांग्रेस को 3 सीट देने को राजी, गुजरात और हरियाणा का ये है फॉर्मूले

लोकसभा चुनाव से पहले इंडिया ब्लॉक सीट शेयरिंग को लेकर चर्चा कर रहे हैं. अपने चल रहे मतभेदों को एक तरफ रखते हुए दोनों दलों ने बंद कमरे में बैठक की.

auth-image
Gyanendra Sharma
Delhi News

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले इंडिया ब्लॉक सीट शेयरिंग को लेकर चर्चा कर रहे हैं. अपने चल रहे मतभेदों को एक तरफ रखते हुए, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) ने आगामी लोकसभा चुनावों के लिए कई राज्यों, खासकर दिल्ली और पंजाब में सीट-बंटवारे के फॉर्मूले पर चर्चा की. 

दोनों दल के बीच चर्चा के दौरान पंजाब, गोवा, हरियाणा में सीट शेयरिंग के फॉर्मूले को लेकर भी ज्रिक हुआ है. बैठक में मुकुल वासनिक और अशोक गहलोत सहित वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के साथ-साथ सीट-बंटवारे समिति के सदस्य भी शामिल हुए. AAP का प्रतिनिधित्व राज्यसभा सांसद संदीप पाठक और दिल्ली कैबिनेट मंत्री आतिशी और सौरभ भारद्वाज थे.

हालांकि बैठक में मौजूद नेताओं ने मीडिया के साथ कोई विवरण साझा नहीं किया, लेकिन सूत्रों ने बताया कि AAP ने दिल्ली में कांग्रेस को तीन लोकसभा सीटें देने का प्रस्ताव दिया है. कांग्रेस का राजधानी शहर में कोई सांसद नहीं है. 

सूत्रों ने यह भी कहा कि AAP ने गुजरात में 1, हरियाणा में 3 और गोवा में 1 लोकसभा सीट की मांग की है, जिसने व्यवस्था को अंतिम रूप देने के लिए इंडिया ब्लॉक की दोनों पार्टियों को फिर से मिलने के लिए प्रेरित किया है. इसके अलावा, आम आदमी पार्टी (आप), जो पंजाब पर भी शासन करती है, ने सीमावर्ती राज्य में कांग्रेस को 6 सीटें आवंटित करने की इच्छा व्यक्त की है.

गौरतलब है कि पंजाब कांग्रेस के नेताओं ने लोकसभा चुनाव में आप के साथ गठबंधन करने के विचार का कड़ा विरोध किया है. सीमावर्ती राज्य के शीर्ष कांग्रेस नेता नियमित रूप से इस बात पर जोर देते रहे हैं कि सभी स्तरों पर पार्टी के सदस्य आप के साथ हाथ मिलाने को तैयार नहीं हैं. दिल्ली में एक कार्यालय स्थापित करने का भी सुझाव था जहां भारतीय गुट के सभी नेता बेहतर सहयोग के लिए बैठक कर विचार-विमर्श कर सकें.

बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मुकुल वासनिक ने कहा कि कांग्रेस और आप मिलकर जोरदार तैयारी के साथ चुनाव लड़ेंगी और बीजेपी को हराएंगी. समाचार एजेंसी पीटीआई ने वासनिक के हवाले से कहा, "चर्चा के दौरान क्या हुआ, इसका खुलासा करना उचित नहीं है. कुछ समय इंतजार करना होगा. हमने पहले ही एक साथ चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया है. कांग्रेस और आप भारत गठबंधन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं.