share--v1

सर्दियों में बढ़ने लगा है कोलेस्ट्रॉल लेवल तो अपनाएं ये उपाय

High Cholesterol In Winter: सर्दियों में बैड कोलेस्ट्रॉल तेजी बढ़ने की समस्या हो जाती है. ऐसे में आप कुछ आसान से उपायों को अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं. 

auth-image
Mohit Tiwari
Courtesy: freepik

हाइलाइट्स

  • बैड कोलेस्ट्रॉल से हो जाती हैं हार्ट संबंधी समस्याएं
  • गलत खानपान और अनहेल्दी लाइफस्टाइल है इसकी वजह

High Cholesterol In Winter: सर्दियों में कोलेस्ट्रॉल का लेवल तेजी से बढ़ने लगता है. अनहेल्दी लाइफस्टाइल और गलत खानपान के चलते बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ जाता है. गुड कोलेस्ट्रॉल को हाई डेंसिटी लिप्रोप्रोटीन (HDL)कहा जाता है. वहीं, बैड कोलेस्ट्रॉल को लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL)कहा जाता है. यह हार्ट के आर्टरीज के ऊपर जमा हो जाता है. इसकी वजह से हार्ट में ब्लॉकेज हो जाते हैं. इस कारण हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ जाता है. 

सर्दियों में बढ़ जाता है कोलेस्ट्रॉल

सर्दियों में डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव होता है. आलस और सर्दी के चलते लोग शारीरिक रूप से कम एक्टिव हो जाते हैं. लोग इस मौसम में तली भुनी चीजों का सेवन ज्यादा करने लगते हैं. सर्दियों के मौसम में चाय-पकौड़े समेत पराठे और मिठाई समेत कई ऐसी चीजों का सेवन बढ़ जाता है. इससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है. 

सर्दियों में बैड कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करेंगे ये उपाय

1- सर्दियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर चीजों का सेवन करना चाहिए. सर्दियों में सरसों के बीज, अलसी के बीज, चिया सीडस आदि का सेवन शुरू कर देना चाहिए. 

2- बादाम का सेवन आपको सर्दियों में अवश्य करना चाहिए. इसके साथ ही सर्दियों में अखरोट का सेवन भी शुरू कर देना चाहिए. इन ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम हो जाता है. 

3- एवोकाडो में मोनोसैचुरेटेड फैटी एसिड होता है. यह बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करनता है. इस कारण डेली एवोकाडो का सेवन करना चाहिए. 

4- सर्दियों में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल कम हो जाता है. सर्दियों में पालक, पत्तागोभी, फूलगोभी, टमाटर आदि का सेवन करना चाहिए. 

5- शारीरिक गतिविधि अवश्य करें. सर्दियों में शारीरिक रूप से एक्टिव रहें. 

Disclaimer : यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.

Also Read