share--v1

Afghanistan News: तालिबान को हुआ अपनी गलती का एहसास! लड़कियों की शिक्षा पाबंदी पर जानें क्या कहा

Taliban Ban On Women Education: अफगानिस्तान के उप विदेश मंत्री शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ने कहा कि लोगों तालिबान से इसलिए दूर हो रहे हैं क्योंकि हमने महिलाओं की शिक्षा पर प्रतिबंध लगाया है.

auth-image
Shubhank Agnihotri

हाइलाइट्स

  • शिक्षा पैगंबर का दिया अधिकार 
  • शिक्षा के बिना समाज में उजाला नहीं 

Afghanistan News: महिलाओं पर तमाम पाबंदियों को लगाने के बाद लगता है तालिबान को अपनी गलती का एहसास हो रहा है. अफगानिस्तान के उप विदेश मंत्री शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ने कहा कि लोगों तालिबान से इसलिए दूर हो रहे हैं क्योंकि हमने महिलाओं की शिक्षा पर प्रतिबंध लगाया है. 

शिक्षा के बिना समाज में उजाला नहीं 


टोलो समाचार चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक, उप विदेश मंत्री ने एक समारोह में बात करते हुए कहा कि कक्षा 6 से आगे कि छात्राओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने पर जोर दिया है.

उन्होंने कहा कि बगैर ज्ञान के समाज में उजाला संभव नहीं हो सकता. जानकारी के मुताबिक, यह समारोह तालिबान के सीमा और जनजातीय मामलों के मंत्रालय की शैक्षिक संस्थाओं में पढ़ने वाले छात्रों के स्नातक होने के अवसर पर किया गया था. 

शिक्षा पैगंबर का दिया अधिकार 


उप विदेश मंत्री ने कहा कि शिक्षा का अधिकार सभी को है. यह पैगंबर ने उन्हें दिया है. उनसे यह अधिकार कोई नहीं छीन सकता?

यदि कोई इनको छीनने की कोशिश करता है तो यह अफगानियों और यहां के लोगों पर अत्याचार है. अगर लोग हमसे दूर हो रहे हैं या परेशान हो रहे हैं इसका कारण शिक्षा पर लगाया गया प्रतिबंध है. 

'धार्मिक और आधुनिक शिक्षा में कोई अंतर नहीं'

तालिबान के जानजातीय मामलों के कार्यकारी मंत्री नूरल्ला नूरी ने कहा कि दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले युवाओं को स्कूलों में प्रवेश दिलाया गया है. वहां शिक्षा तक पहुंच नहीं है.

उन्होंने इस बात पर भी खासा जोर दिया कि धार्मिक और आधुनिक शिक्षा के बीच अब कोई दूरी नहीं है. आपको बता दें कि अफगानिस्तान की सत्ता में आने के बाद तालिबान ने लड़कियों की माध्यमिक शिक्षा पर पाबंदी लगा दी थी. उनके कॉलेज जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया. 
 

Also Read