share--v1

UNGA में इजरायली कब्जे के खिलाफ आया प्रस्ताव, भारत ने कर दिया समर्थन

UNGA Resolution On Golan Heights: सीरिया के गोलन हाइट्स पर इजरायली कब्जे के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र महासभा में लाए गए प्रस्ताव पर भारत सहित 91 देशों ने समर्थन किया है. गोलन हाइट्स पर 1967 से इजरायली कब्जा है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
फॉलो करें:

हाइलाइट्स

  • मिस्र ने पेश किया महासभा में प्रस्ताव 
  • 62 देशों ने वोटिंग से बनाई दूरी 


UNGA Resolution On Golan Heights: संयुक्त राष्ट्र महासभा में इजरायल को लेकर एक प्रस्ताव पेश किया गया है. इस प्रस्ताव में मांग की गई है कि सीरिया के गोलन हाइट्स से इजरायल अपना कब्जा वापस ले ले. इस प्रस्ताव का समर्थन 91 देशों ने किया है जिसमें भारत भी शामिल है.


मिस्र ने पेश किया महासभा में प्रस्ताव 

मिस्र की ओर से पेश किए गए प्रस्ताव पर 91 देशों ने पक्ष में मतदान किया. वहीं, 8 देशों ने इसके विरोध में वोटिंग की और 62 देश वोटिंग से दूर रहे. इस प्रस्ताव में कहा गया है कि UNGA और UNSC की प्रस्तावना के विपरीत इजरायल सीरिया के गोलन हाइट्स से पीछे नहीं हट रहा है. इजरायल ने इस पर 1967 में कब्जा किया था. 

62 देशों ने वोटिंग से बनाई दूरी 

इस प्रस्ताव का समर्थन करने वाले देशों में भारत के अलावा नेपाल, चीन, लेबनान, ईरान, इराक और इंडोनेशिया, बांग्लादेश और  पाकिस्तान हैं. वहीं, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, पलाउ, कनाडा , इजरायल, माइक्रोनेशिया इसके विरोध में अपना वोट कास्ट किया. यूक्रेन, रूस, जर्मनी, फ्रांस, जापान जैसे 62 देशों ने इस प्रस्ताव से दूरी बनाई. महासभा में इस प्रस्ताव पर 28 नवंबर को वोटिंग हुई थी. 

गोलन हाइट्स का क्या है महत्व


गोलन हाइट्स वेस्ट सीरिया में स्थित एक पहाड़ी इलाका है. इजरायल ने 1967 में सीरिया के साथ छह दिन के युद्ध के बाद गोलन हाइट्स पर अपना कब्जा जमा लिया था. उस दौरान वहां पर रहने वाले सीरियाई लोगों ने अपना घर छोड़ दिया था. यहां से सीरियाई राजधानी दमिश्क साफ दिखाई देती है. इजरायल इसका फायदा उठाते हुए सीरिया की गतिविधियों पर नज़र रख सकता है. सीरिया ने 1973 में एक बार फिर से गोलन हाइट्स को दोबारा हासिल करने का प्रयास किया था. लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिल पाई थी. 

Also Read

First Published : 30 November 2023, 08:26 AM IST