menu-icon
India Daily
share--v1

Chinese Ambassador In Afghanistan: तालिबान शासन को मिला जिनपिंग का साथ, काबुल में राजदूत नियुक्त करने वाला दुनिया का पहला देश बना चीन

Chinese Ambassador In Afghanistan: चीन ने अफगानिस्तान के तालिबान शासन को मान्यता देते हुए काबुल में अपना पहला राजदूत नियुक्त कर दिया है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
Chinese Ambassador In Afghanistan: तालिबान शासन को मिला जिनपिंग का साथ, काबुल में राजदूत नियुक्त करने वाला दुनिया का पहला देश बना चीन

 

Chinese Ambassador In Afghanistan: 2 साल पहले अफगानिस्तान की सत्ता संभालने वाले तालिबान को चीन ने बड़ी राहत दी है. दरअसल चीन ने अफगानिस्तान में तालिबान शासन को मान्यता देते हुए काबुल में अपने पूर्णकालिक राजदूत की तैनाती की है. चीन ऐसा करने वाला दुनिया का पहला मुल्क है. तालिबान के एक प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि की है.


चीनी दूत ने नए मिशन के लिए जाहिर की खुशी

रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबानी प्रवक्ता ने पुष्टि करते हुए कहा कि चीन के नए राजदूत झाओ जिंग ने तालिबानी प्रधानमंत्री मोहम्मद हसन अखुंद से मुलाकात की है.  तालिबान शासन के अन्य प्रवक्ता ने कहा कि एक समारोह के दौरान तालिबानी प्रधानमंत्री और चीनी राजदूत की मुलाकात हुई है. इसके साथ ही चीन के अफगानिस्तान में अपने नए मिशन के लिए खुशी भी जाहिर की है.


प्रधानमंत्री हसन अखुंद ने दी शुभकामनाएं

तालिबान में चीन के नए राजदूत झाओ जिंग ने कहा कि वह अपने इस नए मिशन को लेकर बेहद खुश हैं. अफगानिस्तान में मेरे लिए काम काम करना सम्मान की बात है. झाओ जिंग से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री अल्हाजी मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद ने उन्हें शुभकामनाएं दी.

यूएन ने की तालिबान शासन की आलोचना

हाल ही में यूएन की मानवाधिकारों पर जारी की गई रिपोर्ट में अफगानिस्तान के तालिबान शासन की जमकर आलोचना की गई थी. इस रिपोर्ट में कहा गया है तालिबान के अफगान सत्ता पर काबिज होने के बाद मानवाधिकारों का व्यापक स्तर पर उल्लंघन किया गया है. इस रिपोर्ट में कहा गया कि महिलाएं और लड़कियां बेहद ही क्रूर उत्पीड़न का सामना कर रही हैं.

 

यह भी पढ़ेंः Human Dog: इंसान से कुत्ता बने जापानी शख्स ने कही अपने दिल की बात, कहा- "फिल्मों में काम करने का है मन"