menu-icon
India Daily
share--v1

LAC पर भारतीय सैनिकों की तैनाती बढ़ने पर चिल्लाया चीन, अब दे रहा शांति की दुहाई

India China Relation: भारत ने एलएसी पर सैनिकों की तैनाती बढ़ाई है जिस पर चीन चिढ़ गया है. चीन ने भारत के इस कदम को शांति के प्रयासों के लिए खतरा बताया है.

auth-image
India Daily Live
Mao Ning
Courtesy: Reuters

India China Relation: चीन ने लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल यानी LAC पर भारतीय सैनिकों की संख्या बढ़ाए जाने पर प्रतिक्रिया दी है. चीनी विदेश मंत्रालय की स्पोक्सपर्सन माओ निंग ने शुक्रवार को कहा कि चीन के साथ सीमा पर सैन्य तैनाती बढ़ाना शांति के प्रयासों के प्रतिकूल है. निंग ने यह भी कहा कि भारत का यह कदम सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और शांति की सुरक्षा के लिए अनुकूल नहीं हैं. 

रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में खबर आई थी कि भारत ने चीन सीमा पर 10000 नए सैनिकों की तैनाती की है.  इस तैनाती को एक विशेष क्षेत्र की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है. इसके अलावा क्षेत्र में पहले से ही तैनात 9000 सैनिकों की टुकड़ी लड़ाकू विमान का हिस्सा होगी. यह कमान तिब्बत से लगे हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की सीमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालेगी. 

चीन ने एलएसी के दूसरी ओर बड़े पैमाने पर सैनिकों, बख्तबंद वाहनों, तोपखाने और मोर्टार यूनिट को तैनात किया है. चीनी सेना ने लंबी दूरी की मिसाइलों को भी सीमावर्ती क्षेत्र में तैनात कर रखा है. इसके अलावा चीन ने पैंगोंग त्सो झील पर दो बहुत बड़े पुलों का भी निर्माण किया है. बीजिंग ने लद्दाख सीमा की निगरानी के लिए अपनी पश्चिमी कमांड को भी मजबूत किया है. चीन ने इस इलाके में अपने 20 से ज्यादा लड़ाकू विमानों को भी तैनात किया है. 

इससे पहले भी साल 2021 में भारत ने चीन से सटी सीमा पर 50000 सैनिकों की तैनाती की थी. सैनिकों की यह तैनाती गलवान घाटी की खूनी हिंसा के बाद हुई थी. इस घटना में भारत के 20 सैनिक बलिदान हो गए थे. वहीं, चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों की मौत हुई थी. दोनों देशों ने इसके बाद अपने सीमावर्ती क्षेत्रों में सैन्य तैनाती बढ़ाने, सैन्य इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने की दिशा में अहम कदम उठाए हैं.