menu-icon
India Daily
share--v1

पुलवामा एन्काउंटर में लश्कर-ए-तैयबा का टॉप कमांडर ढेर, दूसरे को जिंदा पकड़ने की कोशिश जारी

मारे गए आतंकी की पहचान रियाज अहमद डार के रूप में हुई है, वहीं दूसरा आतंकी रईस को जिंदा पकड़ने की कोशिश जारी है. दोनों ही आतंकी पुलवामा के काकापोरा गांव के रहने वाले हैं.

auth-image
India Daily Live
Pulwama encounter
Courtesy: social media

Pulwama News: कश्मीर के पुलवामा जिले के निहामा क्षेत्र में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का शीर्ष कमांडर ढेर हो गया. सोमवार (3 जून) तड़के सेना को खबर मिली थी कि निहामा गांव में आतंकी छिपे गुए हैं, इसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और अर्धसैनिक बलों ने एक संयुक्त ऑपरेशन चलाकर पूरे इलाके को घेर लिया. जैसे ही सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी शुरू की आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी. अधिकारियों ने बताया कि आतंकियों के हमले का सेना की  तरफ से भी जवाब दिया गया. अभी भी दोनों तरफ से रुक-रुक कर गोलीबारी जारी है.

 

लश्कर-ए-तैयबा का टॉप कमांडर था रियाज अहमद डार 

सुरक्षाबलों की घेराबंदी में दो आतंकी गए जिसमें से एक को ढेर कर दिया गया. सूत्रों ने बताया कि अभी भी एक आतंकी छुपा हुआ है जिससे सरेंडर करने को कहा जा रहा है. मारे गए आतंकी की पहचान रियाज अहमद डार के रूप में हुई है, वहीं दूसरा आतंकी रईस को जिंदा पकड़ने की कोशिश जारी है. दोनों ही आतंकी पुलवामा के काकापोरा गांव के रहने वाले हैं.

2015 में हुआ था लश्कर-ए-तैयबा में शामिल

डार सितंबर 2015 में लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था. इससे पहले वह कई बार पुलिस की गिरफ्त में आने से बचने में कामयाब रहा है. वहीं रईस 2021 में लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था.

दूसरे को जिंदा पकड़ने की कोशिश जारी 

पुलिस ने बताया कि काफी देर से दोनों तरफ से कोई फायरिंग नहीं हुई है. हालांकि दोनों आतंकी जिस घर में छुपे हुए थे सुरक्षाबलों के बारूदी हमले में उस घर में आग लग गई. हालांकि इस हमले में घर में घुपे आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि नहीं हुई है. रियाज डार के परिवार को मुठभेड़ स्थल पर लाया गया है, ताकि वह उनके कहने पर सरेंडर कर दे.