share--v1

' तुरंत रिहा हों सोरेन-केजरीवाल', लोकसभा चुनाव से पहले रामलीला मैदान में इंडिया गठबंधन ने रखीं 5 मांगें

Demands of INDIA bloc before LS polls: दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित की गई लोकतंत्र बचाओ रैली में विपक्षी गठबंधन इंडिया के लगभग सभी प्रमुख नेता एकत्र हुए और आगामी लोकसभा चुनाव से पहले सरकार को 5 मांगे पूरी करने की बात कही. इन मांगों में झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को तुरंत रिहा करने की मांग भी शामिल है.

auth-image
India Daily Live

Demands of INDIA bloc before LS polls: पिछले साल मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट होने के लिए बनाए गए इंडिया गठबंधन ने पिछले कई महीनों में पहली बार एक साथ एक मंच साझा करते हुए महारैली की. दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित महारैली वैसे तो सीएम केजरीवाल की गिरफ्तारी के विरोध में की गई थी लेकिन जब मंच पर इतने सारे बड़े चेहरे एक साथ हों तो इसका राजनीतिक चुनाव के लिए की जाने वाली रैली की तरह नजर आना लाजमी है.

रविवार को भी यही हुआ जब दिल्ली के रामलीला मैदान में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, पंजाब के सीएम भगवंत मान, जम्मू-कश्मीर एनसी नेता फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, झारखंड के सीएम चंपई सोरेन समेत इंडिया ब्लॉक के कई बड़े नेता शामिल सीएम अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के विरोध में एकता और ताकत के प्रदर्शन के लिए 'लोकतंत्र बचाओ' (लोकतंत्र बचाओ) रैली के लिए इकट्ठा तो हुए लेकिन जैसे-जैसे यह रैली बढ़ी ये चुनावी अभियान का आगाज लगा. 

राम का असली मतलब नहीं जानती भाजपा

इस दौरान इंडिया गठबंधन ने लोकसभा चुनावों में विपक्षी दलों को जीत से दूर रखने के लिए भारतीय जनता पार्टी पर अलोकतांत्रिक दिक्कतें पैदा करने का आरोप लगाया कहा कि वो चुनावों से पहले ही नतीजों को प्रभावित करने की कोशिश में जुटी हुई है. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने बीजेपी की आलोचना करने के साथ उसे भ्रम में फंसी हुई पार्टी बताया और कहा कि वो जिस रंग के बैनर के तले चुनाव लड़ते हैं उसका असली मतलब नहीं जानते.

इसको लेकर प्रियंका गांधी ने भगवान राम की सच्चाई की लड़ाई में उनके संघर्ष की याद दिलाई और कहा,' जब भगवान राम सत्य के लिए लड़ रहे थे, तब उनके पास शक्ति या संसाधन नहीं थे, उनके पास रथ भी नहीं था. रावण के पास रथ, संसाधन, सेना और सोना था. भगवान राम के पास सत्य, आशा, विश्वास, विनम्रता, धैर्य और साहस था. मैं सत्ता में बैठे लोगों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहना चाहती हूं कि भगवान राम के जीवन का संदेश है कि सत्ता स्थायी नहीं होती और अहंकार टूट जाता है.'

डराने-धमकाने के लिए बंद हो जांच एजेंसियों का इस्तेमाल

वहीं महारैली में मौजूद कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने 'राजनेताओं और राजनीतिक दलों को डराने-धमकाने' के लिए जांच एजेंसियों का इस्तेमाल करने के लिए भाजपा पर हमला बोला और कहा, 'BJP ने नेताओं को डरा-धमकाकर और विधायकों और सांसदों को खरीदकर सरकारें बनाईं. हमें लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए लड़ना होगा.'

इस दौरान इंडिया ब्लॉक की 'लोकतंत्र बचाओ' रैली में बोलते हुए कांग्रेस नेता ने आगामी चुनावों से पहले विपक्ष की पांच मांगों का ऐलान किया है:

  • चुनाव आयोग को लोकसभा चुनाव के लिए बराबरी की जमीन तैयार करनी चाहिए ताकि किसी एक पक्ष को ज्यादा फायदा न हो.
  • चुनाव आयोग को इनकम टैक्स, सीबीआई और ईडी के जबरन इस्तेमाल पर रोक लगानी चाहिए जिसका इस्तेमाल विपक्ष को खत्म कर चुनावी नतीजों को प्रभावित करना है.
  • हेमंत सोरेन और अरविंद केजरीवाल को तुरंत रिहा करना चाहिए.
  • विपक्षी पार्टियों को आर्थिक जाल में फंसाने की कोशिश पर लगाम लगनी चाहिए.
  • सुप्रीम कोर्ट की अध्यक्षता में एक एसआईटी का गठन होना चाहिए जो बीजेपी के चुनावी चंदे के जरिए वसूल किए गए पैसों की जांच करे, साथ ही बदले के तहत विपक्षी दलों पर मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों पर भी निगरानी रखे.

Also Read

First Published : 31 March 2024, 07:07 PM IST