menu-icon
India Daily
share--v1

पानी के लिए तरस रहा था बेंगलुरु, पहली बारिश में ही पूरी हो गई हर मुराद, इतने बरसे मेघा कि रिकॉर्ड टूट गया!

Rain In Bengaluru: देश उत्तरी भाग में भीषण गर्मी के अलर्ट के बीच मानसून की कर्नाटक में एंट्री हो गई है. इस बीच लंबे समय से पानी के लिए तरस रहा बेंगलुरु की मुराद पूरी हो गई. हालांकि, रिकॉर्ड बारिश के कारण शहर में समस्याएं भी बढ़ गईं और वो तरबतर हो गया.

auth-image
India Daily Live
Rain In Bengaluru
Courtesy: Social Media

Rain In Bengaluru: दिल्ली-NCR समेत देश के उत्तरी राज्यों में अभी भी भीषण गर्मी और लू का दौर चल रहा है. इस बीच दक्षिण में मानसून की एंट्री हो गई है. लंबे समय से पानी के लिए तरस रहे कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु पहली बारिश में तरबतर हो गया है. हालांकि, मेघ इतने तेज बरसे की कई सालों का रिकॉर्ड टूट गया. इस बारिश से शहर के कई हिस्सों में आफत भी खड़ी हो गई. हालांकि, पानी की समस्या और गर्मी से लोगों को काफी हद तक राहत मिली है.

पिछले दो दिनों से बेंगलुरु में बारिश का दौर जारी है. रविवार को रिकॉर्ड तोड़ने वाली बारिश यहां देखी गई. पिछले 2-3 दिन में शहर में 140.7 मिमी बारिश हुई. इसी के साथ जून महीने में एक दिन में सबसे अधिक बारिश का 133 साल पुराना रिकॉर्ड टूट गया.

टूट गया 133 साल का रिकॉर्ड

बेंगलुरु में रविवार को रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई. इसमें लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. रविवार शाम को 111 मिमी बारिश दर्ज की गई. पिछले दो दिनों से यहां 140.7 मिमी बारिश हुई है. इसी के साथ जून में औसत बारिश 110.3 मिमी के ऊपर चली गई है. दक्षिण-पश्चिम मानसून के कर्नाटक में एंट्री के बाद रविवार को हुई बारिश ने एक दिन में होने वाली बारिश का 133 साल पुराना रिकॉर्ड टूट गया. इसी के कारण शहर में येलो अलर्ट जारी है.

पहले कब हुई थी भारी बारिश

रिपोर्ट के अनुसार, बेंगलुरु में अभी से पहले साल 1891 में 101.6 मिलीमीटर बारिश हुई थी. मौसम विभाग के अनुसार, इस बारिश के बाद शहर के अधिकतम तापमान में 3 से 4 डिग्री की गिरावट आई है. अगले कुछ दिनों तक अधिकतम तापमान 31-32 और न्यूनतम तापमान 20-21 डिग्री सेल्सियस रहेगा. अभी आने वाले अगले कुछ दिनों यानी 10 जून तक शहर में बारिश का दौर जारी रहेगा.

बढ़ गई लोगों की समस्या

रविवार की बारिश बाद कई इलाकों में जलजमाव की समस्या देखने को मिली. यातायात बाधित हो गया और मेट्रो सेवा में भी इसका असर देखने को मिला. भारी बारिश के कारण शहर के 58 अलग-अलग इलाकों में भारी जलभराव की बात कही जा रही है. वहीं सड़कों के किनारे लगे कई पेड़ उखड़ गए हैं. इससे शहर को भारी ट्रैफिक जाम का भी सामना करना पड़ रहा है.