share--v1

Mathura: कब्रिस्तान के नाम दर्ज बांके बिहारी मंदिर की जमीन, इलाहाबाद HC ने सुनाया बड़ा फैसला...जानें पूरा मामला

Mathura Land Dispute: मथुरा के पास शाहपुर गांव है. इस गांव में एक जमीन के हिस्से को लेकर विवाद चल रहा था. इसी मामले पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है.

auth-image
Amit Mishra
फॉलो करें:

Mathura Mandir And Kabristan Dispute: मथुरा (Mathura) से करीब 60 किलोमीटर दूर शाहपुर गांव में बांके बिहारी मंदिर ( Banke Bihari Mandir) की जमीन को फर्जी तरीके से कब्रिस्तान के नाम दर्ज किए जाने के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) में शुक्रवार को सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने जमीन को बांके बिहारी मंदिर ट्रस्ट के नाम दर्ज किए जाने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि एक महीने के अंदर जमीन को राजस्व विभाग के दस्तावेजों में मंदिर ट्रस्ट के नाम दर्ज किया जाए. तो चलिए आपको बताते हैं हि जमाीन विवाद का ये पूरा मामला है क्या.

हिंदू कहते हैं मंदिर, मुस्लिम बताते हैं कब्रिस्तान

मथुरा के पास शाहपुर गांव है. गांव में एक पुराना चबूतरा है. इस चबूतरे के ऊपर मजार बनी हुई है. चबूतरे पर उगी घास और आसपास की झाड़ियां देखकर लगता है कि अब यहां कोई आता-जाता नहीं है. भले ही इस जगह पर कोई आता-जाता ना हो लेकिन चबूतरे के पास हर वक्त दो पुलिसकर्मी तैनात रहते हैं. गांव में रहने वाले हिंदू चबूतरे को बांके बिहारी मंदिर का अवशेष मानते हैं, जिसे मुगल बादशाह औरंगजेब के राज में तोड़ दिया गया था. वहीं मुस्लिम इस जगह कब्रिस्तान बताते हैं.

कागजों में किया गया हेर-फेर

बात आगे की करें तो मंदिर और मजार के विवाद में एक नाम अहम है और वो है राम अवतार गुर्जर. राम अवतार गुर्जर की याचिका पर ही हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है. राम अवतार का कहना है कि बांके बिहारी मंदिर को हथियाने के लिए 70 साल से साजिश चल रही है. इसके लिए कागजों में हेर-फेर किया गया है. गांव में पहले सिर्फ हिंदू रहते थे, बाद में हरियाणा के मेवात से मुसलमान आकर बस गए.

 

रिकॉर्ड बयां करते हैं सच्चाई

राम अवतार बताते हैं, 'बांके बिहारी का मंदिर सदियों पुराना है. इसका रिकॉर्ड भी है. विवाद हुआ, तो 1953 की खतौनी निकलवाई गई. उसमें खसरा नंबर 3217 में .36 डिसमिल या करीब 2.25 बीघा जमीन मंदिर के नाम है. 1962-64 में चकबंदी खत्म हुई, तो नया खसरा नंबर 1081 बना. इसमें भी जमीन बांके बिहारी के नाम ही दर्ज रही.' उनका कहना है कि जमीन पर कब्जा करने की कोशिश 1970 में शुरू हुई थी.

ऐसे सामने आई सच्चाई

राम अवतार के मुताबिक समाजवादी पार्टी के एक स्थानीय नेता भोला पठान ने लेखपाल के साथ कागजों में हेरा-फेरी कर जमीन हथियाने की कोशिश की. अक्टूबर, 2019 में एक दिन मुस्लिम पक्ष के लोग बुलडोजर लेकर आए और चबूतरे के पास बने ऐतिहासिक कुएं को तोड़ दिया. जमीन के चारों ओर कंटीली तार लगाई जाने लगी. गांव के लोग मौके पर पहुंचे, बहसबाजी हुई, अफसरों को बुलाया गया. फेंसिंग का काम रोक दिया गया. दिसंबर, 2019 में कुछ मुस्लिम वहां अगरबत्ती जला रहे थे, इस पर फिर विवाद हुआ.

mathura land dispue court
 

ऐसे बनवाई गई मजार

राम अवतार कहते हैं कि 15 मार्च, 2020 को चोरी-चुपके चबूतरे पर बना बिहारी जी का सिंहासन तोड़ दिया गया और मजार बना दी गई. खबर हुई तो गांव के लोग इकट्ठा हुए और मजार तोड़ दी गई. पुलिस और प्रशासन के अधिकारी आ गए. पुलिस ने हमें अरेस्ट कर लिया. उसी रात चबूतरे पर फिर मजार बनवा दी गई. मामला बढ़ा तो मजिस्ट्रेट ने यथास्थिति बनाए रखने का आदेश देकर पुलिस की ड्यूटी लगा दी, तभी से यहां पुलिसवाले तैनात हैं.

जिलाधिकारी ने बनाई कमेटी

राम अवतार के मुताबिक, 'भोला पठान के लेटर पर आए आदेश के आधार पर लेखपाल ने 108/5 को 1081 कर दिया और खतौनी पर चढ़वा दिया. इससे जमीन कब्रिस्तान के नाम पर दर्ज हो गई और किसी को पता भी नहीं चला. 2020 में मामला बढ़ गया, तो अफसरों से शिकायत की गई. 19 मार्च, 2020 को मुख्यमंत्री को लेटर लिखा गया. जिलाधिकारी से मिले तो उन्होंने एक जांच कमेटी बनाई. कमेटी ने रिपोर्ट भी दी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई. वक्फ बोर्ड से पूछा गया कि क्या ये जमीन आपके यहां दर्ज है, तो उसने भी मना कर दिया.

mathura land dispue
 

बाढ़ में बह गया मंदिर का ऊपरी हिस्सा

गांव के लोगों का भी यही कहना है कि आजादी से पहले सरकारी कागजों में ये जमीन बांके बिहारी मंदिर के नाम पर दर्ज है, तो फिर कभी आबादी, कभी पोखर, कभी कब्रिस्तान के नाम कैसे दर्ज हो सकती है. गांव के लोग बताते हैं कि हमने अपने बड़े-बुजुर्गों से सुना था कि यहां बांके बिहारी का मंदिर था. बहुत साल पहले बाढ़ आई थी, उसमें मंदिर का ऊपर का हिस्सा बह गया, लेकिन चबूतरा और सिंहासन बचा था. हमारे सामने यहां पूजा होती थी, पर अब तीन साल से सब बंद है.

लोग खुश हैं

फिलहाल अब इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला आने के बाद गांव के लोग खुश हैं. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने जमीन को बांके बिहारी मंदिर ट्रस्ट के नाम दर्ज किए जाने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि एक महीने के अंदर जमीन को राजस्व विभाग के दस्तावेजों में मंदिर ट्रस्ट के नाम दर्ज किया जाए.

यह भी पढ़ें: जमीन से लेकर आसमान तक दिखेगा भारत का दम, सुरक्षा पर खर्च होंगे 45 हजार करोड़...पस्त होंगे दुश्मन 

First Published : 16 September 2023, 08:17 AM IST