menu-icon
India Daily
share--v1

Maharashtra News: पुलिस को गुमनाम चिट्ठी... आखिर पुलिस ने कब्र से क्यों निकाली 18 महीने की बच्ची की लाश?

Maharashtra News: महाराष्ट्र के मुंब्रा इलाके से चौंकाने वाली खबर सामने आई है. स्थानीय पुलिस की टीम अचानक यहां के कब्रिस्तान पहुंची और एक कब्र से 18 महीने की बच्ची की लाश को बाहर निकाला. पुलिस को इससे पहले एक गुमनाम चिट्ठी मिली थी. आइए, जानते हैं पूरा मामला.

auth-image
India Daily Live
Maharashtra news Police took out newborn girl body from grave
Courtesy: फोटो क्रेडिट- Mid-Day

Maharashtra News: मुंबई के मुंब्रा इलाके से बड़ी खबर सामने आई है. पुलिस ने 18 महीने की बच्ची की हत्या के आरोप में उसके माता-पिता को गिरफ्तार किया है. बच्ची के सिर पर किसी धारदार हथियार से हमला किया गया है, जिससे उसकी मौत की आशंका है. हालांकि, मुंब्रा पुलिस अभी तक हत्या के पीछे का कारण स्पष्ट नहीं कर पाई है. जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि बच्ची की लाश को मुंब्रा के कब्रिस्तान में दफनाया गया है. इस जानकारी के बाद पुलिस ने कब्रिस्तान से बच्ची की लाश निकालकर पोस्टमार्टम के लिए जेजे अस्पताल भेजा है. फिलहाल, पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है.

पुलिस ने कहा कि बुधवार को गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान 38 साल के जाहिद शेख और 28 साल की नूरानी जाहिद शेख के रूप में हुई है. दोनों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया है.  एक पुलिस अधिकारी ने कहा, उन्हें 15 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है.

पुलिस को मिला था गुमनाम पत्र

पुलिस के अनुसार, अप्रैल के पहले सप्ताह में पुलिस कमिश्नर और मानवाधिकार आयोग को एक गुमनाम पत्र मिला, जिसमें बच्ची की रहस्यमय मौत की पुलिस जांच की मांग की गई थी. पत्र के साथ सिर पर गंभीर चोट वाले मृत बच्चे की तस्वीरें अटैच थीं. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि चिट्ठी पर लिखा गया मोबाइल नंबर बंद पाया गया. चिट्ठी पर जो एड्रेस था, वो भी फर्जी थी. हालांकि, मुंब्रा पुलिस ने उस बच्चे का पता लगाने के लिए मुंब्रा में कब्रिस्तानों और अस्पतालों की तलाशी शुरू कर दी, जिसकी हत्या की आशंका थी.

पुलिस को सूचना मिली कि हाल ही में कब्रिस्तान में बच्ची को दफनाया गया है. पुलिस ने बच्ची की पहचान लबीबा शेख के रूप में की. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पाया गया कि बच्ची को 18 मार्च को कौसा सुन्नी कब्रिस्तान में दफनाया गया था. उसी के साथ एक मृत्यु प्रमाण पत्र भी अटैच था. डेथ सर्टिफिकेट के आधार पर पुलिस डॉक्टरों के पास पहुंची, जहां पता चला कि शेख दंपत्ति बच्ची को उसके सिर की चोट का इलाज कराने के लिए ले गए थे. एक अस्पताल के डॉक्टरों ने शेख दंपत्ति को घायल बच्ची के साथ लौटा दिया था. उन्होंने बताया कि घायल बच्चे के माता-पिता उन्हें ये बताने में सक्षम नहीं थे कि बच्चे को इतनी गंभीर चोट कैसे लगी?

जो कारण बताया, उससे डॉक्टर सहमत नहीं थे

जब माता-पिता ने दावा किया कि बच्ची के सिर पर गिरने के बाद चोट लगी है, लेकिन डॉक्टर इस दावे से संतुष्ट नहीं हुए. जांच के दौरान एक सूत्र ने पुलिस को बताया कि लबीबा शेख दंपत्ति की 5वीं संतान थी और पहले लबीबा से बड़ी एक और बच्ची को भी सिर में ऐसी ही चोट लगी थी, लेकिन उसकी जान बच गई थी. इस जानकारी के बाद, पुलिस ने शेख और उसकी पत्नी से पूछताछ शुरू की, तो उन्होंने अपराध कबूल कर लिया.मामले में पुलिस ने हत्या का केस दर्ज किया है. लबीबा की लाश को पुलिस ने पिछले हफ्ते श्मशान से बाहर निकाला था. 

मुंब्रा पुलिस ने IPC की धारा 201, 302 और 34 के तहत मामला दर्ज किया है. मुंब्रा पुलिस स्टेशन इंस्पेक्टर संजय दवने ने बताया कि हमने माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया है और जांच कर रहे हैं. हत्या के मकसद या कारणों के बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है. इसके अलावा, अलग-अलग एंगल से भी हम जांच पड़ताल में जुटे हैं. जाहिद मूल रूप से झारखंड का रहने वाला है. उसने चेंबूर के एक मदरसे में पढ़ाई की है और फिलहाल मुंब्रा के मदरसे में पढ़ाता है.