menu-icon
India Daily
share--v1

हमारे राम 'सिद्धारमैया' तो अयोध्या में क्यों करें 'भाजपा के राम' की पूजा; जानें किस कांग्रेसी नेता ने दिया ये बेतुका बयान

कांग्रेस नेता होलालकेरे अंजनेय चित्रदुर्ग में पत्रकारों से बात कर रहे थे. उनसे पूछा गया था कि 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन में शामिल होने के लिए सिद्धारमैया को आमंत्रित क्यों नहीं किया गया?

auth-image
Naresh Chaudhary
Karnataka Congress, CM Siddaramaiah, Ram Mandir, BJP, Congress

हाइलाइट्स

  • निमंत्रण पत्र के बारे में सिद्धारमैया ने कहा- आज तक नहीं मिला
  • कांग्रेस नेता बोले- भगवान हनुमान का एक नाम अंजनेय भी है

Karnataka Congress: जैसे-जैसे अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन की तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे विपक्षियों की ओर से बयानबाजी भी तेज होती जा रही है. ताजा मामला कर्नाटक से सामने आया है. यहां के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता होलालकेरे अंजनेय ने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की तुलना भगवान राम से कर दी है. उन्होंने पूछा है कि किसी को अयोध्या के राम मंदिर में जाकर 'भाजपा के राम' की पूजा क्यों करनी चाहिए? 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, होलालकेरे अंजनेय चित्रदुर्ग में पत्रकारों से बात कर रहे थे. उनसे पूछा गया कि 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन में शामिल होने के लिए सिद्धारमैया को आमंत्रित क्यों नहीं किया गया? इस पर अंजनेय ने कन्नड़ भाषा में कहा कि सिद्धारमैया खुद राम हैं. फिर (अयोध्या) मंदिर में जाकर उस राम की पूजा क्यों करें? वह भाजपा के राम हैं. भाजपा प्रचार के लिए ऐसा करती है. उन्हें ऐसा करने दीजिए. 

कांग्रेस नेता बोले- भगवान हनुमान का एक नाम अंजनेय भी है

उन्होंने कहा कि हमारे राम हमारे दिल के अंदर हैं. मेरा नाम अंजनेय है, आप जानते हैं उन्होंने क्या किया? कहा कि अंजनेय भगवान हनुमान का दूसरा नाम है, जो महाकाव्य रामायण में भगवान राम के समर्पित साथी हैं. 

अंजनेय की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा नेता बसनगौड़ा पाटिल यतनाल ने कहा कि यह राज्य का दुर्भाग्य है कि ऐसे भाई-भतीजावादी, हिंदू विरोधी अतीत में राज्य के मंत्री रहे हैं. अंजनेयप्पा सिद्धारमैया पूजनीय देवता की पूजा करें. उन्होंने कहा कि हिंदुओं के आदर्श भगवान राम के बारे में बातें करना बंद करो. 

निमंत्रण पत्र के बारे में सिद्धारमैया ने कहा- आज तक नहीं मिला

बता दें कि 30 दिसंबर को सिद्धारमैया ने कहा था कि उन्हें अयोध्या में राम मंदिर के अभिषेक के लिए निमंत्रण नहीं मिला. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सिद्धारमैया के हवाले से कहा था कि आज तक मुझे निमंत्रण नहीं मिला है. अगर निमंत्रण आता है, तो मैं इस पर गौर करूंगा. इस बीच कांग्रेस नेता और पूर्व पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी 22 जनवरी को राम मंदिर उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होंगी.