menu-icon
India Daily
share--v1

बहुमत से दूर, फिर भी इन 4 रास्तों से सरकार बना सकता है INDIA गठबंधन, समझिए कैसे

ताजा रुझानों के मुताबिक भले ही इंडिया गठबंधन बहुमत के आंकड़े से काफी दूर हो लेकिन उसके सामने सरकार बनाने के 4 रास्ते मौजूद हैं जिनके दम पर वह आसानी से सरकार बना सकती है.

auth-image
India Daily Live
india alliance
Courtesy: Social media

Lok Sabha elections 2024: लोकसभा की 543 सीटों पर लगातार मतगणना जारी है. 4 बजे तक के ताजा रुझानों के मुताबिक एनडीए 296 और इंडिया गठबंधन 230 सीटों पर आगे चल रहा है. एनडीए को कम सीटें मिलने की वजह से जहां भारतीय जनता पार्टी के लिए संकट की स्थिति खड़ी हो गई है वहीं दूसरी तरफ बहुमत के आंकड़े से दूर इंडिया गठबंधन ने भी सरकार बनाने का दावा ठोक दिया है. सरकार बनाने के लिए बीजेपी के साथ-साथ इंडिया गठबंधन में भी जोड़-तोड़ से सरकार बनाने की कोशिशें तेज हो गई हैं.

ताजा रुझानों के मुताबिक भले ही इंडिया गठबंधन बहुमत के आंकड़े से काफी दूर हो लेकिन उसके सामने सरकार बनाने के 4 रास्ते मौजूद हैं जिनके दम पर वह आसानी से सरकार बना सकती है.

1. टीडीपी का मिले साथ- पूर्ण बहुमत न मिलने की स्थिति में पक्ष-विपक्ष दोनों के लिए ही सहयोगी दलों की अहमियत बढ़ गई है. इनमें से कुछ पार्टिायां ऐसी रही हैं जिनका मौकापरस्ती का इतिहास रहा है. टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू भी उनमें से एक हैं. इस बार का लोकसभा चुनाव चंद्रबाबू नायडू ने भाजपा के साथ मिलकर लड़ा था. ताजा रुझानों में उनकी पार्टी 16 सीटों पर आगे चल रही है. केंद्र की सत्ता में आने के लिए इंडिया गठबंधन को चंद्रबाबू नायडू को मनाना होगा. इंडिया गठबंधन ने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है.

2. फिर से पलटें पलटू राम: इसके अलावा इंडिया ब्लॉक को एक बार फिर से पलटू राम नीतीश कुमार को पलटाना होगा. इंडिया गठबंधन या एनडीए फिलहाल दोनों इस हालत में हैं कि दोनों को ही नीतीश कुमार से हाथ मिलाना होगा. पलटू राम की वजह से नीतीश कुमार की छवि काफी धूमिल हुई है लेकिन यह भी सच है कि वह अपने फायदे के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं. अब यह देखना होगा कि इंडिया ब्लॉक नीतीश कुमार को अपने साथ लाने में कामयाब रहता है या नहीं.

3. नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP): सरकार बनाने के लिए इंडिया गठबंधन के लिए एक-एक सीट जरूरी है. अजित पवार की नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी 1 सीट पर बढ़त बनाए हुए हैं. इंडिया गठबंधन पूरी कोशिश करेगा कि चाचा-भतीजे के बीच की जंग समाप्त हो जाए और अजित पवार एक बार फिर से शरद पवार के साथ आ जाएं. 

4. पीएम पद का ऑफर: केंद्र की सत्ता में आने के लिए इंडिया गठबंधन को अपने सहयोगी दलों की कई शर्तों के सामने झुकना होगा. केंद्र की सरकार बनाने में इस बार नीतीश कुमार की जेडीयू और चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी मुख्य भूमिका निभाने जा रही हैं और दोनों ही नेता मौकापरस्ती के लिए जाने जाते हैं. अगर इंडिया गठबंधन इन्हें अपने साथ लाने में कामयाब हो पाता है तो यह निश्चित है कि उसे दोनों की कोई भी शर्त माननी होगी. इन शर्तों में ये पीएम पद की भी शर्त रख सकते हैं. यानी इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर नीतीश कुमार या चंद्रबाबू नायडू पीएम की कुर्सी पर विराजमान हो सकते हैं.