menu-icon
India Daily
share--v1

BJP की बी टीम निकली BSP? इन 16 सीटों के आंकड़ों ने खोल दी मायावती की पोल

BSP Performance in UP: कई बार उत्तर प्रदेश की सीएम बनने वाली मायावती की बसपा इस बार उत्तर प्रदेश में जीरो सीटों पर सिमट गई है. मायावती की पार्टी ने कई सीटों पर INDIA गठबंधन का नुकसान भी किया है, वरना नतीजे कुछ और हो सकते थे.

auth-image
India Daily Live
Mayawati
Courtesy: BSP

उत्तर प्रदेश में लंबे समय तक राज करने वाली बहुजन समाज पार्टी (BSP) लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से शून्य पर सिमट गई है. जिस तरह से मायावती ने INDIA गठबंधन से दूरी बनाई, फिर बीच चुनाव अपने ही भतीजे आकाश आनंद को हटाया और कई सीटों पर कैंडिडेट उतारे, उसको लेकर शुरू से ही सवाल उठ रहे थे. बार-बार मायावती और उनकी पार्टी BSP को बीजेपी की बी टीम बताया जाता रहा. अब चुनाव नतीजों के आधार पर भी यही कहा जा रहा है. उत्तर प्रदेश की एक दर्जन से ज्यादा लोकसभा सीटें ऐसी हैं जो यह दिखा रही हैं कि मायावती की वजह से बीजेपी उन सीटों पर जीत पाई, वरना उसका हश्र और बुरा होने वाला था.

उत्तर प्रदेश में सपा को 37 और बीजेपी को 33 सीटों पर जीत मिली. गठबंधन के हिसाब से देखें तो INDIA गठबंधन को 43 सीटें और NDA गठबंधन को 36  सीटों पर जीत मिली. अब एक ऐसा आंकड़ा सामने आया है जो यह दर्शाता है कि अगर मायावती भी इंडिया गठबंधन का हिस्सा होतीं तो शायद बीजेपी 20 से भी कम सीटों पर सिमट जाती. मायावती के अलग लड़ने से नुकसान यह हुआ कि BSP को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली. इतना ही नहीं, 80 में से एक भी सीट ऐसी नहीं रही जहां BSP लड़ाई में भी दिखी हो.

हांफ गया हाथी

अकेले उतरने का नतीजा यह हुआ कि मायावती की पार्टी सिर्फ 9.39 प्रतिशत वोट मिले. 2019 में 10 सीटें जीतने वाली मायावती की पार्टी इस बार जीरो सीटों पर तो सिमटी ही, वह वोट के मामले में कांग्रेस से भी पीछे हो गई. यहां तक कि नई नवेली आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) के चंद्रशेखर आजाद भी एक सीट जीतने में कामयाब हो गए लेकिन बसपा का कहीं पर भी खाता नहीं खुला. अब मायावती मुस्लिमों को कोसती नजर आ रही हैं और भविष्य में उन्हें टिकट न देने की बात कर रही हैं.

16 सीटों की कहानी क्या है?

यूपी की 16 सीटें ऐसी रहीं जहां BSP के उम्मीदवारों को जितने वोट मिले, उससे कम वोटों से बीजेपी या उसके सहयोगियों को जीत मिल गई. अगर मायावती INDIA  गठबंधन का हिस्सा होतीं तो शायद बीजेपी सिर्फ 19 सीटों पर सिमट जातीं. हालांकि, यह भी सच है कि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि बसपा का वोट इंडिया गठबंधन को ट्रांसफर हो जाता.

किन सीटों पर हो गया गेम?

अकबरपुर लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 44,345
बसपा- 73,140

अलीगढ़ लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 15,647
बसपा- 1,23,929

अमरोहा लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 28670
बसपा- 164099

बांसगांव लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 3150
बसपा- 64750

भदोही लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 44072
बसपा- 155053

बिजनौर लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 37508
बसपा- 218986

देवरिया लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर-  34842
बसपा- 45564

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 2678
बसपा-45390

फतेहपुर सीकरी लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 43405
बसपा-120539

हरदोई लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 27856
बसपा- 122629

मेरठ लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 10585
बसपा- 87025

मिर्जापुर लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 37810
बसपा-144446

मिश्रिख लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 33406
बसपा-111945

फूलपुर लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 4332
बसपा- 82686

शाहजहांपुर लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 55379
बसपा- 91710

उन्नाव लोकसभा सीट
जीत हार का अंतर- 35818
बसपा- 72527