share--v1

Pankaj Udhas Love Story: प्यार के लिए 80 के दशक में तोड़ी थी मजहब की दीवार, फिल्मी है पंकज उधास की प्रेम कहानी

Pankaj Udhas Love Story: अपनी गज़लों से लोगों के के दिलों में राज करने वाले पंकज उधास अब हमारे बीच नहीं रहे. उनकी बेटी ने सोशल मीडिया पर उनके निधन की पुष्टि की है.

auth-image
India Daily Live

Pankaj Udhas Love Story: भारतीय संगीत जगत के मशहूर गजल गायक पंकज उधास ने 73 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया है. बेटी नायाब उधास ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट कर पिता के निधन की जानकारी दी. उनकी मौत से पूरे संगीत जगत में शोक की लहर दौड़ गई है. उनके फैंस सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

इसी बीच उनके जीवन से जुड़ी कई बातें सोशल मीडिया पर बताई जा रही हैं. अपने गज़ल से लोगों को दीवाना बनाने वाले पंकज उधास की प्रेम कहानी किसी फिल्मी किस्से से कम नहीं थी. उन्होंने गजल की दुनिया में खूब नाम कमाया.

पड़ोसी के घर में पहली मुलाकात

17 मई 1951 को गुजरात के जैतपुर में जन्मे पंकज ने पूरे भारत में अपनी गजलों से खुद की पहचान बनाई. पंकज और फरीदा की प्रेम कहानी बहुत ही रोमांटिक हैं. पंकज अपने पड़ोसी के घर में फरीदा से मिले थे. पहली ही नजर में वो फरीदा को अपना दिल दे बैठे थे. दोनों के बीच मुलाकात कराने का जिम्मा पंकज के पड़ोसी ने ही उठाया था. दोनों के घर थोड़ी दूर पर ही थे. तीसरे पड़ोसी के घर में पकंज और फरीदा की प्रेम कहानी को राह मिली थी. 

पड़ोसी की वजह से ही दोनों की पहली मुलाकात हो पाई थी. अपने तीन भाइयों में पंकज सबसे छोटे थे. इसलिए उन्हें घर में सबसे ज्यादा प्यार और दुलार मिलता था. उनके दोनों बड़े  भाई मनहर उधास और निर्मल उधास भी संगीत की दुनिया से ताल्लुक रखते थे. इसलिए पंकज का संगीत के प्रति झुकाव बढ़ता चला गया.

मुलाकातों का दौर

पंकज कॉलेज में थे. वहीं फरीदा एयर होस्टेस थी. ग्रेजुएशन कर रहे पंकज और फरीदा पहली बार मिलने के बाद बार-बार मिलने लगा. मुलाकातों का दौर बड़ा. दोनों के दिल में एक दूसरे के लिए इश्क उमड़ने लगा.

एक-दूसरे से मिलते-मिलते पंकज और फरीदा एक दूसरे के बहुत करीब आ चुके थे. इतना की दोनों ने एक दूसरे के साथ जीवन बिताने की सोची. लेकिन दोनों के बीच धर्म की दीवार आ गई थी.

प्यार के बीच धर्म की दीवार

पंकज उधास ने अपने घर वालों से अपनी प्रेम कहानी बताई तो उनके घर वालों ने कोई एतराज नहीं जताया लेकिन फरीदा के घर वाले दोनों के रिश्ते से खुश नहीं थे. वो नहीं चाहते थे कि फरीदा पारसी कम्युनिटी से बाहर जाकर किसी अन्य धर्म के लड़के से शादी करे. पकंज हिंदू धर्म से थे. इसलिए फरीदा के घरवालों नहीं चाहते थे उनकी बेटी की शादी पकंज से हो.

पारिवारिक सहमति के बिना दोनों शादी नहीं करना चाहते थे. इसलिए दोनों ने ये तय किया जब परिवार वाले राजी हो जाएंगे तभी वो शादी के बंधन में बंधेंगे. अंत: दोनों के घरवालों ने उनके रिश्ते को अपना लिया इसके बाद दोनों ने शादी की.

पंकज उधास का पहला एल्बम साल 1980 में आया था. इस एल्बम का नाम आहट था. जैसे ही उनका पहला एल्बम लॉन्च हुआ बॉलिवुड से उन्हें बड़े-बड़े ऑफर मिलने लगे. और देखते ही देखते उनकी गज़लें हिंदुस्तान की जनता के दिलों पर राज करने लगीं.  

 

Also Read