menu-icon
India Daily
share--v1

कौन है वो अमर रीछ राजा जो आज भी सत्यलोक से दुनिया पर रखता है नजर, भगवान विष्णु की नींद से हुआ था जन्म!

Who is that immortal bear king: हिंदू धर्मग्रंथों और पौराणिक कथाओं में रीछों के राजा और वानर श्रेष्ठ जंबवंत को बहुत ताकतवर माना जाता है. जहां कुछ मानते हैं कि इन्हें भगवान ब्रह्मा ने बनाया था तो कुछ कहते हैं ये भगवान विष्णु के ध्यान से पैदा हुए थे. आइये इनसे जुड़े रोचक तथ्यों पर एक नजर डालते हैं-

auth-image
India Daily Live
Immortal Bear King
Courtesy: AI generated

Who is that immortal bear king: हिन्दू धर्मग्रंथों और पौराणिक कथाओं में जंबवंत को रीछों का राजा माना जाता है. इनको कपिश्रेष्ठ नामक वानर के रूप में भी जाना जाता है. प्राचीन ग्रंथों के अनुसार जंबवंत को भगवान राम की रावण पर विजय में सहायता करने के लिए भगवान ब्रह्मा द्वारा बनाया गया था.

समुद्र मंथन के समय जंबवंत भी उपस्थित थे. कहा जाता है कि वामन रूपी विष्णु के तीनों लोकों का दान लेने के समय जंबवंत ने उनका कई बार चक्कर लगाया था. मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में स्थित जामथून गांव को "जामवंत की नगरी" के रूप में जाना जाता है और माना जाता है कि यह जंबवंत का निवास स्थान था.

ब्रह्मा-विष्णु को लेकर क्या है कहानी?

जंबवंत को भगवान ब्रह्मा का पुत्र और अमर बताया जाता है. वह हिमालय के राजा थे जिन्हें भगवान राम की सेवा करने के लिए एक वानर के रूप में अवतार लिया गया था. भगवान राम ने उन्हें दीर्घायु और एक लाख सिंहों के समान बल का आशीर्वाद दिया था.

जंबवंत को आमतौर पर एक भालू के रूप में वर्णित किया जाता है, हालांकि कुछ ग्रंथों में उन्हें कपिश्रेष्ठ नामक वानर के रूप में भी उल्लेख मिलता है. एक कथा के अनुसार, सृष्टि के समय भगवान ब्रह्म कमल पर बैठकर भगवान विष्णु को ध्यान मग्न देख रहे थे. तभी ध्यान में लीन विष्णु के मुख से एक भालू निकला जिसे बाद में जंबवंत नाम दिया गया. संस्कृत में जम्हाई को जृम्भण कहते हैं और माना जाता है कि जंबवंत का जन्म जम्बूद्वीप नामक द्वीप पर हुआ था. उनकी पुत्री जंबवती का विवाह भगवान कृष्ण से हुआ था.

जंबवंत की रामायण में भूमिका

रामायण में जंबवंत की महत्वपूर्ण भूमिका है. सीता की खोज के लिए हनुमान को प्रेरित करने और उनकी असीम क्षमताओं को उजागर करने का श्रेय जंबवंत को ही दिया जाता है. जब हनुमान राम की खोज में ऋष मुनियों के पास पहुंचे, तो जंबवंत ही थे जिन्होंने हनुमान को उनके पवनपुत्र होने का और उनके अंजनी नाम की माता होने का स्मरण कराया. जंबवंत ने ही हनुमान को बताया कि उनकी ताकत इतनी है कि वे समुद्र लांघ सकते हैं. 

इसके साथ ही जंबवंत ने उन्हें वैद्यराज सुषेण से मिलने की सलाह दी, जिनसे उन्हें  विशल्याकरण नामक औषधि के बारे में पता चला. इस औषधि का उपयोग लक्ष्मण को बचाने में किया गया था, जिन्हें इंद्रजीत के कारण बेहोशी हो गई थी. रावण के साथ युद्ध में जंबवंत ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. उन्होंने रावण पर कई शक्तिशाली प्रहार दिए और उनकी छाती पर लात मारी, जिससे वह युद्ध के दौरान बेहोश हो गए.

जंबवंत से जुड़ी अन्य रोचक बातें

  • जंबवंत को सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि कम्बोडिया, मलेशिया, श्रीलंका और इंडोनेशिया जैसे अन्य देशों में भी पूजनीय हैं, जहां रामायण और अन्य हिन्दू परंपराओं का पालन किया जाता है. उन्हें जंबवंतन, जंबवंत, जामवंत, जांबुबान, चंपू, जंबुवाना, कीरतुवन, ज़ाबमान, संबुवन और चोम्फुफान जैसे अन्य नामों से भी जाना जाता है.
  • जंबवंत को अकेला ऐसा माना जाता है जिसने भगवान विष्णु के सभी दस अवतारों को देखा है. इस वजह से भारत में किसी चीज को बहुत पुराना बताने के लिए यह कहा जाता है कि "ये तो जंबवंत के जमाने की बात है"
  • जंबवंत को चिरंजीव माना जाता है. हिन्दू धर्म में चिरंजीव वे होते हैं जिन्हें अमरत्व का वरदान प्राप्त होता है. यह माना जाता है कि जंबवंत आज भी सत्यलोक में निवास करते हैं.
  • महाराष्ट्र राज्य के जामखेड गांव में जंबवंत का एकमात्र मंदिर पाया जाता है.