menu-icon
India Daily
share--v1

ESIC: रिटायर्ड कर्मचारियों को ESIC ने दी बड़ी खुशखबरी! ज्यादा सैलरी पर भी मिलेगा स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ

ईएसआईसी के तहत बीमित रिटायर्ड कर्मचारी या दिव्यांग व्यक्ति और उसके जीवनसाथी को 120 रुपए के वार्षिक प्रीमियम पर चिकित्सा सुविधा दी जाएगी. बीमाकृत व्यक्ति के उपचार पर खर्च की कोई अधिकतम सीमा नहीं है.

auth-image
India Daily Live
esic

कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) ने हजारों-लाखों रिटायर्ड कर्मचारियों को बड़ी सौगात दी है. अब उन सभी रिटायर्ड कर्मचारियों को  चिकित्सा सेवाओं का लाभ मिलेगा जो  वेतन ज्यादा होने की वजह से ईएसआई योजना से बाहर हो गए थे. हाल ही में हुई ESIC की बैठक में  इस प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है.

ईएसआईसी के अनुसार, इस योजना का फायदा उन कर्मचारियों को मिलेगा जो 1 अप्रैल 2012 के बाद कम से कम 5 सालों तक ईएसआई स्कीम में शामिल रोजगार में थे और 1 अप्रैल 2017 को  या उसके बाद 30 हजार रुपए मासिक वेतन के साथ रिटायर हुए थे  या जिन्होंने वीआरएस ले लिया था. ऐसे रिटायर्ड कर्मचारी भी अब इस योजना से लाभान्वित होंगे.

क्या हैं मौजूदा नियम
फिलहाल ईएसआई योजना का लाभ उन कर्मचारियों को मिलता है जिनका मासिक वेतन 21 हजार या उससे कम है. वहीं शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्तियों के लिए योजना का लाभ लेने के लिए न्यूनतम वेतन सीमा 25000 रुपए महीना है. इस योजना में कर्मचारी व नियोक्ता दोनों की ओर से योगदान किया जाता है.

ऐसे मिलेगा फायदा
ईएसआईसी के तहत बीमित रिटायर्ड कर्मचारी या दिव्यांग व्यक्ति और उसके जीवनसाथी को 120 रुपए के वार्षिक प्रीमियम पर चिकित्सा सुविधा दी जाएगी. बीमाकृत व्यक्ति के उपचार पर खर्च की कोई अधिकतम सीमा नहीं है.

देशभर में ESIC के 150 से अधिक अस्पताल
इस योजना के तहत कर्मचारियों को एक ईएसआई कार्ड जारी किया जाता है जिसका इस्तेमाल कर वे ईएसआई के पंजीकृत अस्पतालों में मुफ्त चेकअप करा सकते हैं और ईएसआई डिस्पेंसरी से मुफ्त में दवा ले सकते हैं. देशभर में ESIC के 150 से भी अधिक अस्पताल हैं, जहां हर प्रकार की बीमारियों का इलाज होता है.

आयुष 2023 पॉलिसी भी होगी लागू
बैठक में ईएसआई के अंतर्गत आने वाले लोगों के कल्याण के लिए आयुष 2023 पॉलिसी लाने का भी फैसला किया. यह पॉलिसी सभी ईएसआईसी केंद्रों पर लागू होगी, जिसके तहत अस्पतालों में पंचकर्म, क्षरा सूत्र और आयुष यूनिट खोली जाएंगी.

यह भी देखें