menu-icon
India Daily
share--v1

शेयर या म्यूचुअल फंड, भारतीय बाजार में इन्वेस्टमेंट के लिहाज से क्या है ज्यादा फायदेमंद

Best investment method for Indian Market: कम समय में ज्यादा पैसा कमाने का सपना हर कोई देखता है और पिछले कुछ समय में भारतीय बाजार को दुनिया भर के निवेशकों के लिए मौके के तौर पर देखा जा रहा है. ऐसे में लोगों को निवेश करने के लिए सलाह दी जाती है ताकि वो उस पैसे से अपना भविष्य बना सकें, हालांकि हमेशा एक सवाल आता है कि निवेश के लिए कौन सा विकल्प बेहतर है.

auth-image
India Daily Live
Shar Market

Best investment method for Indian Market: भारतीय शेयर बाजार में निवेश के दो प्रमुख रास्ते हैं, सीधे तौर पर कंपनियों के शेयर खरीदना (इक्विटी) या म्यूचुअल फंड में निवेश करना. दोनों ही विकल्पों के अपने फायदे और नुकसान हैं, और यह चुनाव इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने निवेश से क्या हासिल करना चाहते हैं. आइए, इन दोनों निवेश विकल्पों की गहराई से तुलना करें ताकि आप यह तय कर सकें कि आपके लिए कौन सा बेहतर है.

सीधे शेयरों (इक्विटी) में निवेश करने से क्या हैं फायदे

ज्यादा कंट्रोल: आप चुन सकते हैं कि किन कंपनियों में अपना पैसा लगाना चाहते हैं. आप अपने पोर्टफोलियो को खुद मैनेज कर सकते हैं और कुछ खास कंपनियों के प्रदर्शन के आधार पर प्रॉफिट कमा सकते हैं.

संभावित रूप से अधिक रिटर्न: यदि आप बाजार की गहरी समझ रखते हैं और कंपनियों का गहन विश्लेषण कर  सही समय पर सही दांव लगा सकते हैं, तो सीधे शेयरों में निवेश से आपको बाजार औसत से अधिक मुनाफा मिल सकता है. कुछ कंपनियों के शेयरों में तेजी से उछाल आने की संभावना भी होती है.

इक्विटी में सीधे निवेश से होने वाले नुकसान

अधिक रिसर्च की आवश्यकता: सीधे शेयरों में निवेश करने के लिए बाजार का गहन अध्ययन और कंपनियों का गहन विश्लेषण जरूरी होता है. आपको आर्थिक समाचारों, कंपनियों की वित्तीय रिपोर्टों और उद्योग के रुझानों पर लगातार नजर रखनी होगी. इसमें काफी समय और मेहनत लगती है.

ज्यादा जोखिम: व्यक्तिगत कंपनियों के प्रदर्शन में उतार-चढ़ाव का सीधा असर आपके पोर्टफोलियो पर पड़ता है. अगर किसी कंपनी का प्रदर्शन खराब रहता है या उस क्षेत्र में कोई नकारात्मक घटना घटती है, तो आपको भारी नुकसान हो सकता है. शेयर बाजार स्वभाव से अस्थिर होता है, और इसमें गिरावट आने पर पूरे पोर्टफोलियो को नुकसान हो सकता है.

विविधीकरण की कमी: सीमित पूंजी वाले निवेशकों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में अपना पैसा फैलाना (विविधीकरण) मुश्किल होता है. कुछ कंपनियों में ही पैसा लगाने से जोखिम बढ़ जाता है.

म्यूचुअल फंड में निवेश से फायदे

प्रोफेशनल मैनेजमेंट: म्यूचुअल फंड का प्रबंधन अनुभवी फंड मैनेजरों के हाथों में होता है. इन फंड मैनेजरों के पास बाजार का गहन ज्ञान और अनुभव होता है, जो बाजार की गतिविधियों का विश्लेषण कर के आपके फंड का पैसा विभिन्न परिसंपत्तियों में लगाते हैं.

निवेश के लिए ज्यादा विकल्प: म्यूचुअल फंड आपके पैसे को विभिन्न कंपनियों के शेयरों, बॉन्ड और अन्य परिसंपत्तियों में निवेश करते हैं, जिससे जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है. अगर किसी एक कंपनी का प्रदर्शन खराब रहता है, तो भी अन्य कंपनियों के अच्छे प्रदर्शन से उसकी भरपाई हो सकती है.

SIP सुविधा: म्यूचुअल फंड में आप हर महीने कम राशि का निवेश करके (SIP या सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) दीर्घकालीन धन निर्माण कर सकते हैं. यह बचत की आदत को बढ़ावा देता है और बाजार के उतार-चढ़ाव को संतुलित करता है.

कम निवेश: आप कम राशि से भी म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं. यह उन लोगों के लिए फायदेमंद है जिनके पास एकमुश्त में बड़ी राशि निवेश करने के लिए नहीं है.

म्यूचुअल फंड में निवेश से नुकसान

कम कंट्रोल: आप यह तय नहीं कर सकते कि आपके फंड का पैसा किन कंपनियों में लगाया जाएगा. यह फंड मैनेजर का निर्णय होता है.

कम मुनाफा: आमतौर पर म्यूचुअल फंड का रिटर्न सीधे शेयरों में निवेश करने से कम होता है.

खर्च: म्यूचुअल फंड योजनाओं से जुड़े प्रबंधन शुल्क और अन्य खर्च होते हैं.

आपके लिए कौन सा बेहतर है?

यदि आप बाजार के जानकार हैं, अपना रिसर्च खुद कर सकते हैं और जोखिम उठाने की क्षमता रखते हैं, तो सीधे शेयरों में निवेश आपके लिए फायदेमंद हो सकता है. यदि आपके पास सीमित समय है, बाजार की जानकारी कम है और जोखिम उठाना नहीं चाहते हैं, तो म्यूचुअल फंड आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है.

शेयर या म्यूचुअल फंड, दोनों ही निवेश के अच्छे विकल्प हैं. सही चुनाव करने के लिए अपने वित्तीय लक्ष्यों, जोखिम उठाने की सहनशीलता और निवेश के ज्ञान को ध्यान में रखें. यदि आप अनिश्चित हैं, तो किसी वित्तीय सलाहकार से सलाह लें.