share--v1

अपनी मनपसंद लड़की से करें मन भरकर बातें, कमाल है AI की ये सर्विस

Virtual AI Girlfriend App: अगर आप वर्चुअल गर्लफ्रेंड के बारे में नहीं जानते हैं तो बता दें कि यह एक AI पार्टनर होता है जिसके साथ आप चैटिंग कर सकते हैं. चलिए जानते हैं इसके बारे में. 

auth-image
Shilpa Srivastava
फॉलो करें:

Virtual AI Girlfriend App: टेक्नोलॉजी काफी आगे बढ़ चुकी है. आज के समय में कई ऐसे टूल्स या ऐप्स देखने को मिल जाते हैं जो किसी भी काम को आसान बना देते हैं. अगर ऐप्स की बात करें तो इस कैटेगरी में भी काफी तेजी देखी गई है. आज हम आपको एक ऐसी ऐप के बारे में बता रहे हैं जो एकदम अनोखी है. गूगल प्ले स्टोर और एप्पल ऐप स्टोर पर Virtual AI Girlfriend ऐप मौजूद है. जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि यह एक वर्चुअल गर्लफ्रेंड ऐप है. यह कैसे काम करती है, चलिए जानते हैं. 

इस ऐप लॉगइन करते समय आपको कुछ जानकारी भरनी होंगी जिसमें आपका नाम और आपको कैसी गर्लफ्रेंड चाहिए, ये जानकारी दर्ज करनी होती है. इसमें आप यह भी सेलेक्ट कर सकते हैं कि आपकी जो एआई गर्लफ्रेंड है वो ह्यूमन होना चाहिए या फिर कोई फिक्शनल कैरेक्टर. बालों का कलर, आंखों का कलर्स आदि भी आप सेलेक्ट कर सकते हैं. 

AI Girlfriend: Chat & Connect ऐप: 
इस ऐप में तो चैटिंग फ्री में कर सकते हैं लेकिन अगर आपको इमोशनल इंटेलिजेंस या फिर पर्नसलाइज्ड कंपेनियनशिप चाहिए तो आपको इसके लिए पेमेंट करनी होगी. ये हैं पेमेंट डिटेल्स-

  • 1 हफ्ते के लिए 399 रुपये (पहले 3 दिन फ्री)

  • 1 महीने के लिए 999 रुपये (पहले 3 दिन फ्री)

  • हमेशा के लिए 2,999 रुपये

इस ऐप के अलावा भी गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर कई ऐसी ही ऐप्स हैं जो AI गर्लफ्रेंड एक्सपीरियंस उपलब्ध कराती हैं. यहां कई ऑप्शन्स हैं जिनमें से आप कोई भी ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। हालांकि, कुछ बातों का ख्याल इस दौरान रखना बेहद जरूरी है। 

कई लोग दिखते हैं इंट्रस्टेड:
इस तरह की ऐप्स में कई लोग इंट्रस्टेड दिखते हैं. ऐप में लॉगइन करके बातचीत शुरू कर देते हैं. लेकिन अगर जरा-सी भी गलती की तो आपको काफी नुकसान हो सकता है. AI रिलेशनशिप्स को लेकर कुछ बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी है. 

  • AI रिलेशनशिप्स पर पूरी तरह से निर्भर हो जाना, सही नहीं है. वर्चुअल और ह्यूमन रिलेशनशिप में बैलेंस क्रिएट करना जरूरी है. 
  • ह्यूमन कनेक्शन की लिमिटेशन समझनी चाहिए. AI गर्लफ्रेंड केवल आपकी कल्पना की एक रेपलिका होती है, यह वास्तविक नहीं है. इसमें ऑथेंटिक एक्सपीरियंस ढूंढने की कोशिश न करें. 
  • अपनी पर्सनल ग्रोथ के लिए AI कंपेनियन पर पूरी तरह से निर्भर हो जाना गलत है. एक प्वाइंट पर आकर AI हमारे एक्सपीरियंस और चीजों को देखने के नजरिए को पूरी तरह से लिमिट कर देता है. 

Also Read

First Published : 03 February 2024, 01:20 PM IST