menu-icon
India Daily
share--v1

IND VS IRE: नासाउ स्टेडियम में रनों के लिए क्यों तरस रहे बैटर, 'ड्रॉप इन' पिच क्या बला है?

T20 WC 2024: 5 जून को न्यूयॉर्क के जिस नासाउ काउंटी मैदान पर भारत और आयरलैंड के बीच मुकाबला होना है, वहां ड्रॉप इन पिच का यूज किया गया है. जानिए इसके बारे में सबकुछ...

auth-image
Bhoopendra Rai
Nassau County International Cricket Stadium
Courtesy: Twitter

T20 WC 2024: टी20 विश्व कप 2024 के शुरुआती मुकाबले न्यूयॉर्क के नासाउ क्रिकेट स्टेडियम में हो रहे हैं. इसी मैदान पर टीम इंडिया को अपने शुरुआती 2 मुकाबले खेलना है. पहला मैच 5 जून को आयरलैंड के खिलाफ होना है, जबकि 9 जून को पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा मैच होगा. इस मैदान पर अब तक 2 मैच देखने को मिले हैं, जिनमें बल्लेबाज रनों के लिए तरसे. इस मैदान पर पिच को ड्राप इन किया गया है. ऐसे में जानते हैं कि क्यों यहां रन बनाना मुश्किल है और ड्रॉप इन पिच क्या बला है?

दरअसल, इस मैदान पर 1 जून को भारत और बांग्लादेश के बीच अभ्यास मैच में टीम इंडिया ने 5 विकेट खोकर 182 रन बनाए थे, जवाब में बांग्लादेश को 122 रन पर रोक दिया. इस मुकाबले में तेज गेंदबाजों का जलवा दिखा था. दूसरा मुकाबला श्रीलंका और साउथ अफ्रीका के बीच हुआ, जिसमें श्रीलंका 19.1 ओवर में महज 77 रन बना सकी, जबकि साउथ अफ्रीका ने 16.2 ओवर में 4 विकेट खोकर यह टारगेट चेज किया. इस मैच में तेज गेंदबाजों ने 7 विकेट निकाले. ये आंकड़े बताते हैं कि यहां रन बनाना बेहद मुश्किल है.



आखिर क्यों नासाउ स्टेडियम में रनों के लिए तरस रहे बैटर?

नासाउ स्टेडियम की पिच गेंदबाजों के लिए स्वर्ग जैसी है. यहां तेज गेंदबाजों को अधिक मदद है. गेंद को बढ़िया उछाल और स्विंग मिल रहा है, जिससे बल्लेबाज चकमा खा रहे हैं. यहां गेद कभी-कभी रुक कर आ रही है, जिसे खेलने के चक्कर में बल्लेबाज आउट हो रहे हैं. इस मैदान में बनी पिच में ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड से लाई गई लाल मिट्टी का यूज किया गया है, जिस पर गेंदबाजों को उछाल मिलना तय माना जाता है. यही वजह है कि यहां बल्लेबाज रनों के लिए तरस रहे हैं और गेंदबाजों का जलवा है.



मॉड्यूलर स्टेडियम है नासाउ काउंटी

न्यूयॉर्क में तैयार किया गया नासाउ काउंटी स्टेडियम क्रिकेट का पहला मॉड्यूलर स्टेडियम है. मतलब इसकी पिच, स्टैंड किसी एक टूर्नामेंट के लिए असेंबल किए गए हैं. इस स्टेडियम में स्टील और आसानी से असेंबल हो जाने वाले एलिमेंट्स का यूज हुआ है, जिससे खड़ा करने में समय और पैसा दोनों की बचत हुई है. नासाउ स्टेडियम में बरमूडा घास भी लगाई गई है, जो बेसबॉल और फुटबॉल ग्राउंड में लगती है.

टेम्पररी स्टेडियम है

बताया गया है कि जब टी20 वर्ल्ड कप 2024 खत्म हो जाएगा तो इस स्टेडियम को फिर से एक पार्क में कन्वर्ट कर दिया जाएगा.  यानी यह एक टेम्पररी स्टेडियम है, जिसका इस्तेमाल क्रिकेट के अलावा बाकी स्पोर्ट्स खेलने के लिए भी किया जा सकता है.

क्या बला है ड्रॉप -इन पिच

नासाउ के मॉड्युलर स्टेडियम में ड्रॉप-इन पिच का यूज किया गया है. ड्रॉप इन पिच का मतलब है कि एक निर्धारित स्थान से दूर किसी मैच के लिए पिच तैयार करने और फिर निर्धारित मैच के लिए उस पिच का यूज करना 'ड्रॉप-इन' पिच कहलाता है. इस मैदान के लिए कुल 10 पिचें ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड शहर में बनाई गईं हैं, जिनका वजन करीब 30 टन था, पिछले साल इन पिचों को समुद्र के रास्ते अमेरिका के फ्लोरिडा शहर पहुंचाया गया था. फ्लोरिडा में 5 महीने तक पिच को तैयार किया किया गया और पिछले महीने यानी मई में नासाउ स्टेडियम में फिट कर दिया गया.

ड्रॉप-इन पिच क्यों लगाई गई है?

दरअसल, टी20 विश्व कप 2024 का आयोजन नजदीक था और यहां स्टेडियम और पिच तैयार करने के लिए बोर्ड को बहुत कम समय मिला था. इसलिए ड्रॉप-इन पिच को ऑस्ट्रेलिया में बनाकर अमेरिका पहुंचाया गया, इस मैदान पर में फिट की गई पिच को एडिलेड ओवल टर्फ सॉल्यूशन कंपनी ने अमेरिका की ही द लैंडटेक कम्पनी के साथ बनाया है.