share--v1

Republic Day 2024: 26 जनवरी पर ऐसे दें भाषण...सब बजाएंगे ताली, जानें टिप्स एंड ट्रिक

Republic Day 2024: गणतंत्र दिवस पर हर जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं. स्कूल से लेकर सार्वजनिक जगहों पर तिरंगा फहराया जाता है. लोग इस दिन देश प्रेम की भावना से भरे होते हैं.

auth-image
Aparajita Singh

Republic Day 2024: हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है. इस दिन स्कूल-कॉलेज से लेकर ऑफिस और अन्य सार्वजनिक जगहों पर कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. स्कूलों में इस दिन निबंध लिखना, ड्राइंग, सिंगिंग-डांसिंग और भाषण की प्रतियोगिता होती है. ऐसे कार्यक्रमों में बड़ों के साथ बच्चे भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं. तो अगर आप भी गणतंत्र दिवस के मौके पर स्पीच देने वाले हैं तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे टिप्स एंड ट्रिक्स, जिससे देश प्रेम से भरा ऐसा भाषण दे पाएंगे कि हर कोई ताली बजाएगा. 

ये हैं टिप्स एंड ट्रिक्स

. सबसे पहले अपने स्पीच का आइडिया तैयार करें और एक बढ़िया इन्ट्रो तैयार करें. क्योंकि किसी भी स्पीच का सबसे आकर्षक पार्ट उसका इन्ट्रो ही होता है. 

. अपनी बातों को रखने के लिए स्पष्ट और ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करें, जो आम लोगों की समझ में आसानी से आ जाए. 

. स्पीच से जुड़े कहानियों को बताएं और अपनी बात को तर्क के साथ रखें.

. किसी भी स्पीच को तीन पार्ट में बांटा जाता है. इन्ट्रो, मेन पार्ट और अंतिम निष्कर्ष. इसलिए अपनी स्पीच को भी इसी फॉर्मैट पर तैयार करें. 

. कोशिश करें कि स्पीच सिर्फ रट के न पढ़ें बल्कि समझ कर बोलें, इससे सुनने वालों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा. 

. 26 जनवरी पर स्पीच दे रहे हैं तो सबसे पहले इस दिन के इतिहास के बारे में बात करें और बताएं कि ये दिन क्यों महत्वपूर्ण है. 

. स्पीच में भारत के संविधान और उसके पालन से जुड़ी बातें कर सकते हैं. साथ ही संविधान आज के समय में कितना जरूरी है इस पर प्रकाश डालें. 

. ये बताएं कि संविधान किस तरह से विभिन्न धर्मों, भाषाओं और संस्कृतियों के लोगों के बीच एकता को बढ़ाता है. 

. भारत की आजादी के नायकों के बलिदान पर भी बोल सकते हैं. देश की आजादी के लिए हमारे लोगों ने कितनी मेहनत की है, इसके बारे में बताएं. 

. देश के भविष्य में छात्रों की भूमिका बताते हुए उन्हें लोकतांत्रिक मूल्यों और राष्ट्र निर्माण के बारे में बताएं. 

. अपनी स्पीच में भारत को परिभाषित करने वाली समृद्ध सांस्कृतिक विविधता पर जोर दें और इसकी रक्षा करने के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करें.

Also Read

First Published : 25 January 2024, 11:37 AM IST