menu-icon
India Daily
share--v1

ईरान के खौफ से सकते में इजरायल सहित पश्चिमी दुनिया, जंग की आहट पर USA ने किया यह बड़ा काम

Iran Israel Row: मध्य-पूर्व में ईरान की धमकी के बाद तनाव चरम पर है. इजरायल की मदद के लिए अमेरिका ने भी अपनी कमर कस ली है और अपने युद्धपोतों की तैनाती कर दी है.

auth-image
India Daily Live
Iran Usa Israel

Iran Israel Row: मध्य पूर्व में तनाव चरम पर है. अमेरिका ने आशंका जताई है कि ईरान अगले 24 घंटों के भीतर इजरायल पर बड़ा हमला कर सकता है. खुफिया जानकारी के मुताबिक ईरान अपनी कार्रवाई को रविवार तक अंजाम दे सकता है. ईरानी कार्रवाई को देखते हुए इजरायल ने भी अपनी युद्धक तैयारियों को तेज कर दिया है. ईरान सीरिया में उसके वाणिज्यिक दूतावास पर इजरायली हमले का जवाब देने की कोशिश में है. 

ईरान के इजरायल पर हमला करने की चेतावनी पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने तेल अवीव को पूरा समर्थन देने की बात कही है. रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका ने इजरायल और अमेरिकी बलों की सुरक्षा के लिए  अतिरिक्त सैन्य सहायता भेजी है. अमेरिकी नेवी के एक अधिकारी ने कहा कि 2 विध्वंसक नौसैनिक जहाजों को भू-मध्यसागर की ओर भेजा गया है. भेजे गए जहाजों में एक यूएसएस कॉर्नी है जो रेड सी में हूतियों के ड्रोन हमलों और एंटी शिप मिसाइलों के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर रहा था. अमेरिका ने इस बीच कूटनीतिक पहल भी आरंभ कर दी है. यूएस ने ईरान के मित्र देशों से भी बातचीत करनी शुरु कर दी है ताकि शत्रुता के प्रयासों पर लगाम लगाई जा सके. 

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन इजरायल को हमले को लेकर चेताया है. उन्होंने ईरान से भी हमला न करने की अपील की है. बाइडन ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं सत्यापित तरीके से तो नहीं कह सकता लेकिन आशंका है कि यह हमला जल्द हो सकता है. 

रिपोर्ट के अनुसार, ईरान गाजा पट्टी में युद्धविराम सहित अपनी मांगे पूरी होने तक पीछे नहीं हटना चाहता है. ईरान परमाणु कार्यक्रम पर फिर से बातचीत शुरू करना चाहता है. ईरान ने अमेरिका से आग्रह किया था कि वह नियंत्रित हमले की स्थिति में शामिल नहीं होगा लेकिन अमेरिका ने इसे खारिज कर दिया है. इजरायल ने गत एक अप्रैल को सीरिया में ईरानी वाणिज्यिक दूतावास पर हवाई हमला किया था. इस हमले में 2 कमांडर सहित 12 लोगों की मौत हो गई थी. ईरान ने इस हमले के बाद बदला लेने की कसम खाई है.