share--v1

क्या होता K-Pop वीडियो? जिसे देखने पर 2 बच्चों को मिली 12 साल की कठोर सजा

सार्वजनिक रूप से इतनी बड़ी सजा को देखकर लगता है कि इसे पूरे देश में लोगों को चेतावनी देने की साजिश है. आशंका है कि यह वीडियो साल 2022 के आसपास का है.

auth-image
Naresh Chaudhary

हाइलाइट्स

  • उत्तर कोरिया में दक्षिण कोरिया का कोई भी म्यूजिक सुनना-देखना अपराध
  • कोविड महामारी के दौरान का बताया जा रहा वीडियो, बच्चों ने लगाए हैं मास्क

K-POP Videos: एक म्यूजिक वीडियो देखने और उसे गुनगुनाने की सजा आखिर कितनी हो सकती है? चौंकिए नहीं, एक ऐसा मामला सामने आया है जानकर आपके भी होश उड़ जाएंगे. उत्तर कोरिया में के-पॉप वीडियो देखने पर दो किशोरों 12 साल की कठोर सजा सुनाई गई है. आरोप है कि दोनों बच्चों ने वीडियो देखा था और उसके म्यूजिक पर थिरक रहे थे. आरोप सिद्ध होने पर एक सार्वजनिक सभा के दौरान दोनों किशोरों को उत्तर कोरियाई अधिकारियों ने सजा सुनाई. साथ ही कहा कि ऐसे वीडियो बच्चों के भविष्य को बर्बाद कर रहे हैं.

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, एक उत्तर कोरियाई संगठन की ओर वीडियो जारी किया गया है. वीडियो फुटेज में उत्तर कोरियाई अधिकारियों को के-पॉप देखने के लिए दो किशोरों को सार्वजनिक रूप से 12 साल की कड़ी मेहनत के साथ सजा देते हुए दिखाया गया है. फुटेज में प्योंगयांग में दो 16-वर्षीय बच्चों को दक्षिण कोरियाई फिल्में और संगीत वीडियो देखने का दोषी पाया गया है. बताया गया है कि दक्षिण और उत्तर विकास (SAND) संस्थान की ओर से जारी किया गया था. हालांकि रॉयटर्स उस फुटेज की पुष्टि नहीं करता है. 

उत्तर कोरिया में दक्षिण कोरिया का कोई भी म्यूजिक सुनना-देखना अपराध

साल 2020 में नया प्रतिक्रिया-विरोधी विचार कानून लागू होने के बाद से उत्तर कोरिया ने वर्षों से दक्षिण कोरियाई म्यूजिक सुनना समेत कई चीजें आरोपों की श्रेणी में आता है. ऐसा करते हुए पकड़े जाने पर कड़ी सजा का प्रावधान है. 

राष्ट्रपति चोई क्योंग-हुई ने कहा कि इतनी बड़ी सजा को देखते हुए ऐसा लगता है कि इसे पूरे उत्तर कोरिया में लोगों को चेतावनी देने के लिए दिखाया गया है. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि यह वीडियो 2022 के आसपास का है. (उत्तर कोरियाई नेता) किम जोंग उन के लिए परेशानी की बात यह है कि मिलेनियल्स और जेन जेड युवाओं ने अपने सोचने का तरीका बदल दिया है. 

कोविड महामारी के दौरान का बताया जा रहा वीडियो

उत्तर कोरियाई अधिकारियों की ओर से बनाए गए वीडियो में एक बड़े सार्वजनिक परीक्षण को दिखाया गया है. इसमें ग्रे स्क्रब पहने दो छात्रों को हथकड़ी लगाई गई है, जबकि एक एम्फीथिएटर में करीब 1,000 छात्र उन्हें देख रहे हैं. दो 16-वर्षीय बच्चों समेत सभी छात्रों ने फेस मास्क पहने हुए हैं, जिससे पता चलता है कि फुटेज को कोविड-19 ​​​​महामारी के दौरान शूट किया गया था. वीडियो के अनुसार छात्रों को तीन महीने तक दक्षिण कोरियाई फिल्में, संगीत और संगीत वीडियो देखने और फैलाने का दोषी ठहराए जाने के बाद सजा सुनाई गई थी.

Also Read

First Published : 20 January 2024, 10:07 AM IST