share--v1

US Election: समोसा बेचा, टेक स्टार्टअप भी शुरू किया; कौन हैं भाविनी पटेल, जो अमेरिका में लड़ेंगी चुनाव

US Election: मूल रूप से गुजरात की रहने वाली 30 साल की भाविनी पटेल ने अमेरिका में चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. भाविनी पेन्सिल्वेनिया के 12वें कांग्रेसनल डिस्ट्रिक्ट से चुनाव लड़ने जा रहीं हैं. फिलहाल, इस इस सीट पर डेमोक्रेटिक पार्टी का कब्जा है.

auth-image
Om Pratap
फॉलो करें:

Bhavini Patel: 80 के दशक में गुजरात की एक महिला अपने बच्चों को लेकर अमेरिका के पूर्वोत्तर राज्य पेन्सिल्वेनिया आती हैं. यहां वे काफी मुश्किलों से बच्चों का पालन करती हैं. वो कभी रेस्टोरेंट्स में बर्तन धोती है, तो कभी बच्चों को लेकर इधर-उधर भटकती है. जब बच्चे बड़े होते हैं, तब भी उनके सामने पढ़ाई और परिवार के खर्चे के लिए कमाई की चुनौती होती है. शुरुआत ऐसे में बच्चे कभी स्ट्रीट फूड ट्रक पर सोमेसे और पेस्ट्री भी बेचते हैं. फिलहाल, महिला का बेटा फूड ट्रक चला रहा है, जहां अमेरिकियों को भारतीय खाने का स्वाद चखाया जाता है, तो वहीं उनकी बेटी अमेरिका में चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है.

हम बात कर रहे हैं 30 साल की भारतीय मूल की भाविनी पटेल की. भाविनी पटेल अमेरिका में चुनाव लड़ने जा रही हैं. मूल रूप से गुजरात की रहने वाली भाविनी पटेल ने बताया कि 80 के दशक में उनका परिवार भारत से अमेरिका के पूर्वोत्तर राज्य पेन्सिल्वेनिया आ गया था. पेन्सिल्वेनिया में इस साल अप्रैल में प्राइमरी चुनाव होने हैं, जिसके लिए उन्होंने अपनी तैयारी पूरी कर ली है. उन्होंने बताया कि चुनाव के लिए उन्होंने 3.10 लाख डॉलर की रकम भी जुटा ली है. 

भाविनी बोलीं- यहां तक का सफर मुश्किलों भरा रहा

भाविनी के मुताबिक, अमेरिकी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स के लिए चुनाव होने हैं, जिसके लिए वो अपनी तैयारी पूरी कर चुकी हैं. उन्होंने बताया कि यहां तक का सफर काफी मुश्किल भरा रहा. उन्होंने अपने अतीत को याद करते हुए बताया कि एक वक्त ऐसा भी आया जब घर के खर्चे के लिए मैंने अपने भाई के साथ मिलकर फूड ट्रक चलाया, जिसका नाम 'इंडिया ऑन व्हील्स' था. इस फूड ट्रक पर भारतीय खाना परोसा जाता था. इसके बाद उन्होंने टेक स्टार्टअप भी शुरू किया और अब चुनाव लड़ने की तैयारी है. 

पिट्सबर्ग यूनिवर्सिटी से किया ग्रैजुएशन

पिट्सबर्ग यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएशन के बाद भाविनी ने स्कॉलरशिप लेकर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रैजुएशन की पढ़ाई पूरी की. उन्होंने बताया कि मैं पेन्सिल्वेनिया के 12वें कांग्रेसनल डिस्ट्रिक्ट से चुनावी मैदान में किस्मत आजमाउंगी. उन्होंने बताया कि फिलहाल इस सीट पर डेमोक्रेटिक पार्टी का कब्जा है, जहां से समल ली सांसद हैं. उन्होंने बताया कि समर ली ने पिछले साल यानी जून 2023 में अमेरिकी कांग्रेस में पीएम मोदी के संबोधन का बहिष्कार किया था, जिसके बाद से समर ली की लोकप्रियता में कमी आई है, जिसके बाद मैं चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमाऊंगी. उन्होंने कहा कि इस इलाके में भारतीयों की संख्या ज्यादा है, जो शायद मेरे फेवर में हो सकता है. 

23 अप्रैल को होने हैं प्राइमरी चुनाव

भाविनी के मुताबिक, पेन्सिल्वेनिया में 23 अप्रैल को प्राइमरी चुनाव होना है. उन्होंने बताया कि मुझे कई लेबर यूनियन का समर्थन मिल चुका है. साथ ही करीब 33 चुने हुए अधिकारियों ने भी मेरे चुनाव लड़ने के फैसले का समर्थन किया है. भाविनी के मुताबिक, चुनाव के लिए मैंने डोर-टू-डोर कैंपेनिंग की है. उन्होंने बताया कि जिस तरह मेरे परिवार ने परेशानियों का सामना किया, उसी तरह कई अन्य परिवार इस इलाके में हैं, जो परेशानियों से जूझ रहे हैं. कुल मिलाकर पूर्वोत्तर अमेरिका के इस राज्य को विकास के रास्ते पर लाना ही उनकी प्राथमिकता है.

 

Also Read

First Published : 10 February 2024, 06:55 AM IST