menu-icon
India Daily
share--v1

India Canada Row: भारत को मिला श्रीलंका का साथ, कनाडा को बताया आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह

India Canada Row: कनाडा में हुए हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के मामले में भारत सरकार पर आरोप लगाने के बाद कनाडा अब आए दिन घिरता जा रहा है. श्रीलंका ने अब कनाडा पर गंभीर आरोप लगाया है और भारत का समर्थन किया है.

auth-image
Purushottam Kumar
India Canada Row: भारत को मिला श्रीलंका का साथ, कनाडा को बताया आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह

India Canada Row: कनाडा में हुए हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के मामले में भारत सरकार पर आरोप लगाने के बाद कनाडा अब आए दिन घिरता जा रहा है. श्रीलंका ने अब कनाडा पर गंभीर आरोप लगाया है. भारत-कनाडा विवाद को लेकर श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी का बयान सामने आया है. अली साबरी ने कनाडा पर तीखा हमला बोलते हुए कहा है कि कनाडा में कुछ आतंकवादियों को पनाह मिल गई है. 

उन्होंने कनाडा के प्रधानमंत्री को निशाने पर लेते हुए कहा कि बिना किसी सबूत के अपमानजनक आरोप लगाने का यही तरीका है. उन्होंने आगे कहा कि पूर्व में श्रीलंका के ऊपर भी ट्रूडो ने ऐसे ही आरोप लगाए थे कि श्रीलंका में भयानक नरसंहार हुआ था, जो कि सरासर झूठ था.

भारत की प्रतिक्रिया सख्त और स्पष्ट

भारत पर कनाडा द्वारा लगाए गए आरोपों को लेकर भारत में श्रीलंका के निवर्तमान उच्चायुक्त मिलिंडा मोरागोडा ने कहा कि कनाडा द्वारा लगाए गए आरोपों पर भारत की प्रतिक्रिया सख्त और स्पष्ट है. भारत कनाडा में जारी तनाव को लेकर उन्होंने कहा कि इस मामले में हम भारत का समर्थन करते हैं.

ये भी पढ़ें: Russia-Ukraine War: क्या नई जंग की तैयारी में है रूस! स्कूल में ही बच्चों को दी जा रही युद्धस्थल जैसी खतरनाक ट्रेनिंग

मिलिंडा मोरागोडा ने आतंकवाद के मुद्दे को लेकर उन्होंने कहा कि मेरा जीवन 40 साल तक आतंकवाद का सामना करते हुए बीता है. श्रीलंका में आतंकवाद के कारण भारी नुकसान हुआ है इसलिए आतंकवाद के प्रति उनका देश जीरो टॉलरेंस रखता है.

निज्जर की हत्या के बाद तनाव

गौरतलब है कि कनाडा में 18 जून को एक गुरुद्वारे के बाहर खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या कर दी गई थी. इस हत्या के पीछे कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो ने भारत का हाथ बताया था जिसके बाद से दोनों देश के बीच तनाव बढ़ गया है. भारत की ओर से कनाडा के सभी आरोपों को खारिज कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें: India Canada Ties: इन भारतीय कंपनियों ने कनाडा में कर रखा है भारी निवेश, कारोबार समेटने पर तबाह हो जाएगी कनाडा की अर्थव्यवस्था