share--v1

'आप सबूत दें, भारत जांच को तैयार', निज्जर विवाद पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कनाडा को दिया दो टूक जवाब

India-Canada Tension: भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ब्रिटेन के दौरे पर हैं. जहां उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कनाडा के तमाम मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी है, और कहा है, कि भारत जांच से इंकार नहीं कर रहा है लेकिन सबूत पेश करने होंगे.

auth-image
Antriksh Singh

India-Canada Tension: सितंबर से चल रहे भारत और कनाडा का विवाद अभी तक सोल्व नहीं हुआ है. जब कनाडा ने खालिस्तानी आतंकी हरदीपर सिहं निज्जर की हत्या के पीछे भारतीय एजेंटों का हाथ बताया था. भारत शुरू से ही इससे इंकार करता आया है. लेकिन कनाडा मानने को तैयार नहीं है.

भारत ने कनाडा से मांगे सबूत 

भारत ने कुछ दिन पहले भी कनाडा से सबूत मांगे थे कि अगर आपके पास भारत के खिलाफ सबूत है तो पेश कीजिए. अब फिर वहीं बात फिर से दोहराई जा  रही है. भारत ने कनाडा में मारे गए खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर के मामले में एक बार फिर से सबूत मांगे है. बता दें कि  भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ब्रिटेन के दौरे पर हैं. जहां उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान तमाम मुद्दों पर खुलकर अपनी बात रखी है और कहा है कि भारत जांच से इंकार नहीं कर रहा है लेकिन पर्याप्त सबूत तो कनाडा को पेश करने ही होंगे जो भी सबूत हो उन्हें भारत से साझा करें.

एस जयशंकर ने कनाडा को तीखे लहजे में कहा है कि कनाडा की राजनीति में हिंसक और अतिवादी राजनीति को जगह मिली है, जो हिसंक तरीकों से अलगाववाद की बात करता है. ऐसे लोगों ने कनाडा की राजनीति में भी जगह बना ली है. एस जयशंकर ने कहा कि ऐसे लोगों के पास बोलने की आजादी है लेकिन इसके साथ ही दूसरे की भावना को ठेस ना पहुंचे इसकी जिम्मेदारी भी है.

2020 में अपराधी घोषित किया गया था निज्जर

बता दें कि भारत ने 2020 में निज्जर को आतंकवादी घोषित कर दिया था जिसके बाद उसने कनाडा की नागरिकता प्राप्त की थी. सितंबर में उसकी हत्या कर दी गई थी जिसका आरोप जस्टिन ट्रूडो ने भारत पर इसका आरोप लगाया था. इसके बाद से भारत और कनाडा के रिश्ते तनावपूर्ण चल रहे हैं. भारत ने ट्रूडो के आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताकर खारिज कर दिया है.

भारत के अपराधियों को दे रहा कनाडा शरण

पहले भी भारत कनाडा के राजनीति को लेकर बोल चुका है. कनाडा के राजनीति में खालिस्तानी समर्थकों की संख्या अधिक होने के नाते शायद यह राजनीति खेल चल रहा है. कनाडा में अधिकतर भारत द्वारा अपराधी घोषित लोगों को शरण मिल रही है, जिससे वहां खालिस्तानी आतंकियों की बढ़ोत्तरी हो रही है. जिस पर कनाडा सरकार को ध्यान देने की जरुरत है.

ये भी पढ़े: 'बघेल प्रीपेड CM.. पूरे प्रदेश कांग्रेस के लिए कलेक्शन सेंटर और ATM', अमित शाह ने चुन-चुनकर बोला हमला

भारत - चीन संबंधों पर क्या बोलें जयशंकर 

चीन को लेकर बात करते हुए विदेश मंत्री ने कहा है कि चीन का उत्थान वास्तविक है, लेकिन उतनी ही वास्तविकता भारत का हो रहा उदय है. भारत और चीन की सभ्यताएं दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताएं हैं. उन्होंने आगे कहा कि कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें पहचानने की जरूरत है. हम दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था  और जनसंख्या के मामले में सबसे बड़े हैं.

First Published : 16 November 2023, 10:12 AM IST