share--v1

Lok Sabha Elections 2024: राहुल गांधी के खिलाफ वायनाड से चुनाव लड़ने वाले BJP उम्मीदवार के खिलाफ दर्ज हैं 242 मुकदमे

Lok Sabha Elections 2024: बीजेपी खुद को हर तरह के दोषों से मुक्त बताती है, लेकिन केरल में राहुल गांधी के खिलाफ ऐसे उम्मीदवार को उतारा है, जिसके खिलाफ 242 मुकदमें दर्ज हैं.

auth-image
Pankaj Soni

Lok Sabha Elections 2024: खुद को चाल, चरित्र और साफ छवि का बताने वाली बीजेपी ने कर्नाटक की वायनाड सीट पर राहुल गांधी के खिलाफ एक ऐसे उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतारा है, जिसके खिलाफ 442 मुकदमें दर्ज हैं. बीजेपी के इस उम्मीदवार का नाम के. सुरेंद्रन है. वह मौजूदा समय में सांसद हैं और केरल भाजपा के अध्यक्ष भी हैं. पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार के. सुरेंद्रन के खिलाफ 242 आपराधिक मामले दर्ज हैं.

चुनाव आयोग के दिशा- निर्देशों के अनुसार, सुरेंद्रन ने हाल ही में पार्टी के मुख पत्र में अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मामलों का विवरण प्रकाशित किया था. ऐसे ही बीजेपी के एर्नाकुलम उम्मीदवार के. एस राधाकृष्णन के खिलाफ लगभग 211 आपराधिक मामले दर्ज हैं.

जॉर्ज कुरियन ने पीटीआई से क्या कहा?

इस बारे में बीजेपी के राज्य महासचिव ने जॉर्ज कुरियन ने पीटीआई को बताया कि के. सुरेंद्रन के ऊपर ज्यादातर मामले 2018 में सबरीमाला विरोध प्रदर्शन से संबंधित हैं. इनमें से ज्यादातर मामले अदालत में हैं. जब पार्टी के नेता हड़ताल या विरोध प्रदर्शन का आह्वान करते हैं, तो पुलिस उस संबंध में मामला दर्ज करती है'. बता दें कि चुनाव आयोग के नए नियमों के मुताबिक उम्मीदवारों को अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मामलों का विवरण किसी समाचार पत्र या पत्रिका में प्रकाशित करवाना अनिवार्य है. सुरेंद्रन ने इसके बारे में प्रकाशित कराया है, जिसके बाद उनके आपराधिक रिकार्ड की चर्चा होने लगी है.

बीएल संतोष ने क्या कहा? 

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष ने शुक्रवार को इसको लेकर एक ट्वीट किया. उन्होंने के. सुरेंद्रन, के. एस राधाकृष्णन, पार्टी की अलाप्पुझा उम्मीदवार शोभा सुरेंद्रन और वटकारा उम्मीदवार प्रफुल्ल कृष्ण के खिलाफ दर्ज मामलों का विवरण साझा किया. लिखा, 'भारत के कुछ हिस्सों में राष्ट्रवादी होना कठिन काम है. यह रोजमर्रा का संघर्ष है.

लेकिन यह संघर्ष करने के लायक है.' केरल भाजपा अध्यक्ष ​के खिलाफ दर्ज मामलों की संख्या का ब्यौरा देते हुए जॉर्ज कुरियन ने कहा, '237 केस सबरीमाला विरोध प्रदर्शन से संबंधित हैं, जबकि 5 केरल में विभिन्न आंदोलनों के संबंध में दर्ज किए गए हैं.'

Also Read