menu-icon
India Daily
share--v1

नौजवान, अनुभवी और बुजुर्ग..., किस उम्र वाले हैं मोदी सरकार के मंत्री, सब समझ लीजिए

Modi Cabinet Ministers: नई सरकार के मंत्रियों ने शपथ ले ली है और कामकाज भी शुरू हो गया है. इस बार मंत्रियों की उम्र सीमा 36 साल से शुरू हो रही है और सबसे बुजुर्ग मंत्री की उम्र 79 साल है.

auth-image
Nilesh Mishra
Oath Ceremony
Courtesy: Social Media

नरेंद्र मोदी ने लगातार तीसरी बार भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ले ली है. रविवार को आयोजित शपथ ग्रहण में कुल 71 मंत्रियों के साथ पीएम मोदी ने भी शपथ ली. यानी मंत्रिमंडल में कुल 72 लोग हो गए हैं. इसमें 30 कैबिनेट मंत्री, 41 राज्य मंत्री और खुद प्रधानमंत्री शामिल हैं. इस मंत्रिमंडल में 36 साल के युवा मंत्री हैं तो 79 साल के बुजुर्ग जीतन राम मांझी भी कैबिनेट का हिस्सा बने हैं. सहयोगियों को शामिल करने की वजह से बीजेपी ने अपने कई पूर्व मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया है. वहीं, कुछ ऐसे भी नेता हैं जिन्हें चुनाव हारने के बावजूद भी कैबिनेट में शामिल किया गया है. पिछली सरकार में मंत्री रहे अनुराग ठाकुर और स्मृति ईरानी जैसे चेहरों को जगह न मिलने पर हैरानी जताई जा रही है.

पिछले मंत्रिमंडल की तरह इस बार भी राजनाथ, अमित शाह, पीयूष गोयल, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान, एस जयशंकर, गिरिराज सिंह, प्रहलाद जोशी, अश्विनी वैष्णव और ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे चेहरों को मंत्री बनाया गया है. इस बार लोकसभा पहुंचे पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर और शिवराज सिंह चौहान को भी कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. वहीं, सहयोगियों में से जयंत चौधरी, एच डी कुमारस्वामी, चिराग पासवान, अनुप्रिया पटेल, जीतन राम मांझी और ललन सिंह को भी मंत्री बनाया गया है.

क्या कहती है उम्र?

इस कैबिनेट में सबसे ज्यादा चर्चा 36 साल के राम मोहन नायडू को लेकर हो रही है. वह इस कैबिनेट के सबसे युवा मंत्री हैं. रक्षा खडसे भी सिर्फ 37 साल की उम्र में मंत्रिमंडल में शामिल हुई हैं लेकिन उन्हें राज्यमंत्री का दर्ज दिया गया है. वहीं, हिंदुस्तानी अवामी मोर्चा (HAM) के मुखिया जीतन राम मांझी सिर्फ एक सीट जीतकर भी 79 साल में कैबिनेट मंत्री बने हैं. इस मंत्रिमंडल में सबसे ज्यादा 23 मंत्री 60 से 70 साल की उम्र वाले ही हैं. यह दर्शाता है कि इस बार अनुभव को ज्यादा तरजीह दी गई.

उम्र के हिसाब से मंत्रियों की संख्या

30 से 40 साल- 1 कैबिनेट मंत्री, एक राज्यमंत्री- कुल 2
40 से 50 साल- 1 कैबिनेट मंत्री, 13 राज्यमंत्री- कुल 14
50 से 60 साल- 10 कैबिनेट मंत्री, 10 राज्यमंत्री- कुल 20
60 से 70 साल- 12 कैबिनेट मंत्री, 11 राज्यमंत्री- कुल 23
70 से 80 साल- 6 कैबिनेट मंत्री, 6 राज्यमंत्री- कुल 12

कम उम्र के लिहाज से देखा जाए तो 71 में से सिर्फ 16 मंत्री ही ऐसे हैं जिनकी उम्र 50 साल से कम है. बाकी के 56 मंत्रियों की उम्र 50 साल से ज्यादा है. 75 साल से ज्यादा उम्र वाले इकलौते मंत्री जीतन राम मांझी हैं जो 79 साल की उम्र में कैबिनेट मंत्री बने हैं.

सहयोगियों के दबाव में बीजेपी?

इस बार बीजेपी को अकेले बहुमत नहीं मिला है. इसका नतीजा यह हो रहा है कि उसे अपने सहयोगियों को भी संतुष्ट करना पड़ रहा है. इसके बावजूद, एनसीपी के मुखिया अजित पवार ने रविवार को कहा कि उन्हें राज्यमंत्री दिया जा रहा था लेकिन उन्हें कैबिनेट मंत्री का पद चाहिए. अजित पवार ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी इंतजार कर लेगी कैबिनेट मंत्री से नीचे का पद नहीं चाहिए. वहीं, कई ऐसे दल हैं जिनके एक ही सांसद हैं लेकिन उन्हें भी मंत्री पद मिल गया है.

इस बार की मोदी सरकार में मंत्रियों की संख्या भी ज्यादा है क्योंकि सहयोगियों को समायोजित करना पड़ रहा है. अभी भी कई पार्टियां ऐसी हैं जिन्हें कोई मंत्री पद नहीं मिला है लेकिन वे लगातार दबाव बना रही हैं. ऐसे में इस बात की संभावना भी जताई जा रही है कि आने वाले समय में मंत्रिमंडल में विस्तार भी देखने को मिल सकता है. गौरतलब है कि केंद्र की सरकार में अधिकतम 81 मंत्री ही हो सकते हैं.